nasa

जयपुर: ‘रेड प्लैनेट’ यानी मंगल ग्रह पर जाने के लिए दुनियाभर के लोग उत्साहित हैं।मंगल ग्रह पर जाने के लिए 1 लाख 38 हजार 899 लोगों ने फ्लाइट की टिकट बुक करवाई है। इन सभी लोगों ने अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा (NASA) के ‘इनसाइट मिशन’ (इंटीरियर एक्सप्लोरेशन यूसिंग सिस्मिक इंवेस्टीगेशन्स, जीओडेसी एंड हीट ट्रांसपोर्ट) के …

लखनऊ: यदि अन्य ग्रहों में जीवन का कोई अस्तित्व है तो दुनिया में प्रेम की अमर मिसाल आगरा के ताजमहल को अन्य ग्रहों के लोग भी जान सकेगे । ताजमहल दुनिया के बेहतरीन नगीनों में एक है, यह बात साबित करती है करीब 39 साल पहले नासा द्वारा अंतरिक्ष में भेजे गए वॉयेजर-1 में लगे …

लखनऊ: आज की तारीख़ 12 अगस्त है वैसे तो हर महीने में 12 तारीख़ और हर साल 12 अगस्त आता है, लेकिन इस साल आज की तारीख़ यानि 12 अगस्त कुछ मायनों में ख़ास है, क्यों कि आज दिन को तो दिन ही रहेगा लेकिन रात को रात नहीं होगी । जी हां, सोशल नेटवर्क …

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का कहना है कि वह एलियन (दूसरे ग्रह के प्राणी) के जीवन के बारे में किसी तरह की घोषणा नहीं करने जा रहा।

न्यूयार्क : हैकरों और ऑनलाइन कार्यकर्ताओं के एक अज्ञात समूह ने दावा किया है कि अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने परग्रहवासियों के अस्तित्व का पता लगा लिया है और जल्द ही वह इसकी घोषणा कर सकता है। एक मीडिया रिपोर्ट में यह दावा किया गया है। हैकरों ने अपनी वेबसाइट पर लिखा है, “नासा का …

अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने एक नए शोध के आधार पर चेताया है कि हमारे ग्रह के लगातार गर्म होने के कारण उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों (ट्रॉपिकल एरिया) में बारिश में वृद्धि होगी।

अमेरिका की निजी अंतरिक्ष एजेंसी स्पेसएक्स (SpaceX) ने शनिवार को अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आईएसएस) तक वस्तुओं की आपूर्ति के लिए अंतरिक्ष यान लॉन्च किया।

वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के लिए अंतरिक्ष से पहला वोट डाला गया है। नासा ने कहा है कि बाहरी अंतरिक्ष में मौजूद उसके एकमात्र अंतरिक्षयात्री ने अंतरिक्षयान से अपना वोट दर्ज कराया है। शेन किम्ब्रो अतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन से मतदान करने की लंबे समय से चली आ रही परंपरा में शामिल होने वाले सबसे हालिया …

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के मैग्नेटोस्फेरिक मल्टीस्केल मिशन (एमएमएस) ने एक जीपीएस सिग्नल को सबसे ऊंचाई पर स्थापित कर गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है। यह जीपीएस सिग्नल पृथ्वी की सतह से 70,000 किलोमीटर की ऊंचाई पर स्थापित किया गया है। यह मिशन पहले ही साल में साइंटिस्टों को पृथ्वी के मैग्नेटोस्फीयर की नई जानकारी जुटाने में मदद कर रहा है।

केप केनेवरलः गुरुवार को निजी रॉकेट लॉन्चिंग कंपनी ‘स्पेस-एक्स’ के फॉल्कन-9 रॉकेट लॉन्च साइट पर कई धमाके हुए। धमाके इतने तेज थे कि इनकी गूंज दूर तक सुनाई दी। धुआं आसमान पर छा गया। कंपनी के मुताबिक धमाका उस वक्त हुआ, जब टेस्ट के लिए एक रॉकेट को ले जाया जा रहा था। फिलहाल हादसे …