nilba khandekar

यह उनकी 43 कविताओं में सातवें नंबर की कविता गैगरेप में आए थे। इस किताब पर उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला था। गत वर्ष इसी कविताको निर्णायक मंडल ने पीस ऑफ आर्ट बताया था। लेकिन राज्य की अकादमी को ये आपत्तिजनक और गंदे शब्द लगे।