noida

प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने बुधवार को नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। करीब दो घंटे तक चली बैठक में उन्होंने उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए जमीन तलाश कर लैंड बैंक बनाने के निर्देश दिए।

देश में कोरोना संकट से निपटने के लिए सरकार सतर्क है और लोगों का दो गज की दूरी, मास्क है जरुरी। यह बात केवल स्लोगन  के साथ सख्ती से पालन करने का निर्देश दिया है। जिससे लोग घर से निकले तो मास्क  लगा होना चाहिए। इसके लिए सरकार ने सरकारी संस्थानों में ही नहीं, बल्कि  सभी मल्टीनेशनल कंपनियों में कोविड 19 हेल्प डेस्क बनाने की बात कही गई है।

Unlock 1.0 में जहां रात 9 बजे से लेकर सुबह के 6 बजे तक कर्फ्यू की बात कही गई थी, वहीं अब इस बार इसमें बदलाव करते हुए रात 10 से सुबह 5 बजे तक रात्रिकालीन कर्फ्यू लागू रहेगा।

शहर की चार सड़कों को माडल के रुप में विकसित किया जाएगा। जिसमें सड़क किनारे छायादार, फलदार, फूलदार बृक्ष हो। साथ ही पेड़ों के नीचे आकर्षक बेंच पड़ी हो, साथ डस्टबिन हो। इस रास्ते आने जाने वाले लोगों को सुखद एहसास कराया जा सके।

पुलिस ने पकड़े गए दोनों बदमाशों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि एक बदमाश का नाम प्रमोद उर्फ राजीव उर्फ किशना और दूसरे का नाम आकाश उर्फ दाढ़ी है। इनके पास से पुलिस ने चोरी की मोटरसाइकिल, एक बंदूक, 26 कारतूस, 315 बोर का तमंचा और खोखा बरामद किया है।

प्राधिकरण अधिकारियों ने बताया कि विशाखापत्तनम, वडोदरा, अहमद नगर, पुणे, बल्लारपुर, नोएडा, ग्वालियर की रेटिंग को समीक्षा में अपग्रेड किया गया है। देश के कचरा मुक्त शहरों में इन शहरों को थ्री स्टार रेटिंग दी गई है।

प्राधिकरण कार्यालय के रिकार्ड रुम में रखी फाइल से आवंटी के कागजी दस्तावेज गायब होना, उन दस्तावेजों को लेकर आवंटी को परेशान किया जाना, उसके बाद सुविधा शुल्क लेकर मामलो को दुरुस्त कर देना कोई नहीं बात नहीं है।

शहर में आने वाले आगंतुकों का स्वागत अब शाही अंदाज में किया जाएगा। हालांकि यह अंदाज लोगों को हरियाली के प्रति जागरूक करेगा और पर्यावरण के नजदीक लेकर जाएगा।

इस भूमि आवंटन योजना से नोएडा क्षेत्र में पूंजी निवेश को बढ़ावा मिलेगा। कंपनियों द्वारा करीब 870 करोड़ रुपए का निवेश किया जाएगा।

इस वक्त पूरा देश कोरोना वायरस जैसे मुश्किल समय का सामना कर रहा है। तमाम कोशिशों के बाद भी भारत में तेजी से कोरोना वायरस का प्रसार हो रहा है। वहीं इस बीच कुछ ऐसे प्राइवेट लैब्स हैं, जिन्होंने ऐसे वक्त को कमाई का जरिया बना लिया है।