north india

उत्तर भारत में गर्मी का प्रकोप जारी है। रुक-रुक हो रही बारिश की वजह से उमस बढ़ गई है। अब उमस भरी गर्मी से परेशान दिल्ली-एनसीआर समेत कई इलाके के लोगों को राहत मिल सकती है।

देश में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच गर्मी के बढ़ते कहर ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। पूरा उत्तर भारत प्रचंड गर्मी और लू की चपेट में है और सूरज से बरसती आग से लोग गरम थपेड़े सहने को मजबूर हैं।

उत्‍तर भारत का पर्वतीय क्षेत्र हिमाचल प्रदेश जिसके बारे में कहा जाता है कि यहां की धरती के कण-कण में सर्वशक्तिमान ईश्‍वर का वास है।

उत्तर भारत में ठंड का कहर अब भी जारी है। जिसकी वजह से मैदानी क्षेत्र में भी ठंड बढ़ने लगी है। वैसे तो, दिल्ली और NCR में रविवार को दिन भर धूप निकली रही।

भीषण ठंड और शीतलहर से पूरा उत्तर भारत कांप रहा है। दिल्ली में 100 साल बाद सबसे ठंडा दिसंबर रिकॉर्ड किया गया है और यहां मौसम विभाग ने रेड अलर्ट जारी किया है।

उत्तरी भारत में लगातार ठंड का कहर जारी है। देश की राजधानी दिल्ली में दिसंबर की सर्दी का ये आलम है कि यहां 1901 के बाद दूसरी बार ऐसा हो सकता है जब साल का आखिरी महीना इतना सर्द रहा हो।

देश की राजधानी दिल्ली में ठंड ने अपना कहर बनाया हुआ है। वही उत्तर में हिमाचल प्रदेश की बात करे तो यहां के कई जिलों में बर्फबारी का दौर जारी है, जिस वजह से पूरे प्रदेश ने ठंड की चादर ओढ़ ली है।

  पूरे उत्तर भारत में दिसंबर के आने के साथ ही ठंड का असर दिखने लगा है। लद्दाख के द्रास में शनिवार रात को माइनस 25.4 डिग्री की सबसे सर्द रात के बाद रविवार को न्यूनतम तापमान माइनस 26 डिग्री पहुंच गया। इसी के साथ द्रास रविवार को दुनिया का दूसरा सबसे ठंडा रिहाइशी क्षेत्र रहा। 

दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर भारत के कई हिस्सों में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 6.3 दर्ज की गई है। इतनी तेज जलजले से पूरा उत्तर भारत भी कांप उठा।

भारत के बहुत से राज्य भीषण बारिश से जूझ रहे हैं। चाहे वो उत्तर भारत, दक्षिण भारत या मध्य भारत कोई भी ऐसा राज्य नहीं है जो बारिश से भीगा ना हो। बात करें तो एक निम्न दबाव का क्षेत्र ओडिशा और इससे सटे भागों पर बना हुआ है, इससे उम्मीद की जा रही है कि यह मानसूनी सिस्टम को फिर से प्रभावित करेगा।