onion

प्याजा की कीमतें इन दिनों आसमान छू रही हैं। देश के कई शहरों में प्याज 100 रुपये प्रति किलो बिक रही है। बढ़ती कीमतों पर लगाम लगाने के लिए प्याज की स्टॉक लिमिट तय कर दी गई है। स्टॉक लिमिट से ज्यादा प्याज रखने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश के कई हिस्सों में अक्टूबर महीने में भारी बारिश की वजह से प्याज की फसल को नुकसान पहुंचा है, जिसके बाद सप्लाई पर सीधा असर पड़ा है।

देश की सबसे बड़ी प्याज मंडी में सोमवार को अच्छी प्याज का बाजार भाव 6 हजार 802 रुपए प्रति क्विंटल तक हो गया। बीते दिनों से महाराष्ट्र के कई इलाको में भारी बारिश जारी है। इसके कारण खेतों में प्याज की फसल खराब हो गई है जिसके कारण प्याज के भाव आसमान पर पहुंच रहे हैं।

निर्यात पर रोक के बावजूद प्याज के दामों में लगातार बढ़ोतरी से सरकार भी अब परेशान हो गई है। प्याज की कीमतों पर लगाम लगाने के लिए खुद गृहमंत्री अमित शाह को आगे आना पड़ा है।

कनाडा में भी सैल्मोनेला बैक्टीरिया के संक्रमण के मामले सामने आए हैं। इस बैक्टीरिया से संक्रमित होने की वजह से 60 लोगों को अस्पताल में भर्ती होने की नौबत आ गई। प्याज से फैले संक्रमण को लेकर लोगों के बीच डर की स्थिति बनी हुई है।

कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की बढ़ती संख्या ने लोगों को बेचैन कर दिया है.।लोगों को आशंका है कि कहीं दूसरे देशों की तरह यहां सब कुछ बंद न हो जाए। इसी डर से गुरुवार को लोगों ने एक-एक दो-दो महीने के लिए आटा, चावल और दूसरे राशन खरीदे साथ ही आलू, प्याज जैसी ज्यादा समय तक खराब न होने वाली सब्जियां खरीदीं.

रंगों का त्यौहार होली आने ही वाला है और सब लोग अपने-अपने घरों में तैयारी शुरू कर दी है। त्यौहार हो और अच्छा खाना न बने तो ऐसा हो नहीं सकता है। खाना बने और प्याज़ का इस्तेमाल न हो ये हो नहीं सकता है। हर चीज में प्याज की ज़रुरत होती है।

प्याज की थोक कीमतों में पिछले एक हफ्ते में 40 फीसदी की गिरावट आ गई है। दूसरी तरफ, विदेश से आयात हुआ प्याज कोई लेने वाला नहीं दिख रहा और मुंबई के बंदरगाह पर 7 हजार टन आयातित प्याज सड़ रहा है।

पूर्णिमा श्रीवास्तव गोरखपुर। गोरखपुर से नागरिकता संशोधन कानून, एनआरसी और ‘भगवा’ को लेकर छिड़े विवाद के बीच ‘शतक’ पार कर चुके प्याज को लेकर भले ही सड़कों पर खास संग्राम नहीं दिख रहा हो लेकिन किचेन से लेकर कारोबारियों में इसकी मंहगाई अहम मुद्दा है। महंगाई का साइड इफेक्ट यह है कि प्याज की लूट …

देशराज उत्तर प्रदेश के कौशांबी जिले का रहने वाला बताया जा रहा है। मोहनिया के थाना प्रभारी उदयभानु सिंह ने बताया कि देशराज के बयान पर मोहनिया थाने में प्याज लूट की प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है और पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है।