OPEC

ऐसी संभावना है कि भारत और चीन ऑयल बायर्स क्लब बन सकते हैं। अगर ऐसा हुआ तो ये देश वैश्विक एनर्जी बाजार में बहुत कुछ बदल सकते हैं। 2 मई 2019 को भारत चीन समेत ईरान से कच्चे तेल आयात के लिए मिली 6 महीने की छूट खत्म हो गई है।

वियना: पेट्रोलियम उत्पादक देशों के संगठन (ओपेक) ने अगले साल तेल की वैश्विक मांग के अनुमान को घटा दिया। धीमी विकास दर और अमेरिकी शेल गैस का उत्पादन बढ़ने की वजह से यह फैसला लिया गया। यह भी पढ़ें: त्रिची एयरपोर्ट: एयर इंडिया की फ्लाइट दीवार से टकराई, बाल-बाल बचे 136 यात्री समाचार एजेंसी सिन्हुआ के …

लगातार गिर रही क्रूड ऑइल की कीमतों को रोकन के लिए जो फार्मूला निकाला जा रहा है इसका सीधा असर देश में पेट्रोलियम कीमतों पर पड़ सकता है। कच्चे तेल की कीमतें आने

तेहरान: ईरान के पेट्रोलियम मंत्री बिजान नामदार जांगनेह का कहना है कि ईरान के अंतर्राष्ट्रीय परमाणु समझौते को लेकर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हालिया बयान से वैश्विक तेल बाजारों पर असर नहीं हुआ है। यह भी पढ़ें: ईरान की माने तो इजरायल और सऊदी अरब लिखते है ट्रंप का भाषण जांगनेह ने कहा, …