parliament

नरेंद्र मोदी सरकार ने 60 साल पुराने नागरिकता कानून को बदलने के लिए पूरी तैयारी कर ली है।केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह सोमवार को लोकसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 पेश करने वाले हैं। यह विधेयक लोकसभा में दैनिक कामकाज के लिए सूचीबद्ध है।

संसद में शुक्रवार को हैदराबाद एनकाउंटर और महिलाओं पर बढ़ते अपराध का मुद्दा संसद में भी उठा। लोकसभा के शून्य काल में कांग्रेस सांसद अधीर रंजन ने महिलाओं के खिलाफ अपराध का मामला उठाया।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बिना नाम लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम पर हमला बोला है. उन्होंने लहसुन प्याज नहीं खाने वाले बयान पर हो रही आलोचना पर कहा कि ये आलोचना इकोनॉमी की है और ये सरकार लगातार बता रही है कि क्या कदम उठाए गए हैं, लेकिन एक आरोप लगाना कि

संसदीय समिति में कैंटीन में मिलने वाली सब्सिडी खत्म करने पर सहमति बनी है। बिजनेस एडवाइजरी कमिटी में सभी दलों के सांसद इस बात पर सैद्धांतिक तौर पर सहमत हुए कि कैंटीन में मिलने वाली सब्सिडी खत्म की जाए।

  मोदी सरकार को राज्यसभा में  सफलता मिली है। दिल्ली की अवैध कॉलोनियों से जुड़ा बिल पास कराने में सरकार को सफल रही है। ये बिल लोकसभा से पहले ही पास हो चुका है अब राज्यसभा से पास हो गया। संसद में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली (अप्राधिकृत कॉलोनी निवासी संपत्ति अधिकार मान्यता) विधेयक पारित हो जाने से दिल्ली की अवैध कॉलोनियों में रहने वाले करीब 40 लाख लोगों को उनकी संपत्ति का मालिकाना हक मिलने का रास्ता साफ हो गया है। इससे 40 लाख लोगों को फायदा होगा।

केंद्र की मोदी सरकार संसद के शीतकालीन सत्र में नागरिकता संशोधन बिल लाने की तैयारी कर रही है। इस बिल में पड़ोसी देशों से शरण के लिए आने वाले हिंदू, जैन, बौद्ध, सिख, पारसी और ईसाई समुदाय के लोगों को भारतीय नागरिकता देने का प्रावधान है।

संसद का शीतकालीन सत्र  के 11वें दिन केंद्र सरकार और विपक्ष के बीच तीखी नोकझोक हुई। पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह को घुसपैठिया बताने पर बीजेपी ने नाराजगी जाहिर की।

संसद के शीतकालीन सत्र का शुक्रवार को 10वां दिन है। लेकिन संसद में साध्वी प्रज्ञा के गोडसे पर दिए बयान को लेकर संसद में संग्राम मचा हुआ। इस बीच साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने अपने बयान पर लोकसभा में माफी मांग ली है।

देश में आज 70वां संविधान दिवस मनाया जा रहा है। इस मौके पर संसद के सेंट्रल हाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सत्र को संबोधित किया।

संसद के दोनों सदन एक बार फिर से गर्मा गए हैं। इस मामले में कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना एक साथ खड़ी है। वहीं बीजेपी के खिलाफ तीनों दल जोरदार नारेबाजी कर रहे हैं और तखती लेकर विरोध कर रहे हैं।लोकसभा में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि ये लोकतंत्र की हत्या है।