patanjali

बा रामदेव के पतंजलि आयुर्वेदिक संस्थान द्वारा कोरोना की दवा कोरोनिल बनाने का दावा कर अपने लिए मुसीबत खड़ी कर ली है। इस मामले में केंद्र सरकार के आयुष मंत्रालय द्वारा पतंजलि पर दवा के प्रचार-प्रसार पर रोक लगाई गई और विभिन्न राज्यों में पतंजलि पर केस लगा दिए गए है।

योग गुरु स्वामी रामदेव कोरोना वायरस की दवा 'कोरोनिल' के लॉन्च के बाद से ही मुसीबत में पड़ गए। दवा को लेकर रामदेव समेत 5 के खिलाफ जयपुर में केस दर्ज हुआ है।

योगगुरु रामदेव ने मंगलवार को कोरोना वायरस की दवा बनाने का दावा कर सभी को हैरान कर दिया है। लेकिन अब इस दवा को लेकर चर्चा तेज हो गई है और इसे लेकर कई तरह के सवाल भी खड़े हो गए हैं।

कोरोना वायरस के इलाज को लेकर दुनिया के तमाम वैज्ञानिक और डॉक्टर्स शोध में जुटे है, इसी बीच योगगुरु रामदेव ने कोरोना की कारगर दवा बनाने का दावा किया और पतांजलि ने इसे देश में लॉन्च भी कर दिया।

रामदेव ने दवा की लॉन्चिंग के मौके पर बड़ा एलान करते हुए कहा कि 'कोरोनिल दवा' सात दिन के अंदर रोगी को पूरी तरीके से ठीक कर देगी।

कोरोना वायरस ने पुरानी दुनिया में तबाही मचा रखी है। लेकिन अभीतक इस जानलेवा वायरस की कोई दवा नहीं बनी है। अब योगगुरु बाबा रामदेव की पतंजलि कंपनी ने दावा किया है कि उन्होंने इसकी दवा तैयार कर ली है।

संयुक्त राष्ट्र के 193 सदस्य देशों में से 177 देशों द्वारा 21 जून 2015 को योग को मान्यता देने के बाद हर वर्ष विश्व में योग दिवस मनाया जा रहा है।

पतंजलि आयुर्वेद ने दावा किया है कि कोरोना के खिलाफ एक दवा तैयार करना में सफलता हासिल हुई है। पतंजलि आयुर्वेद के को-फाउंडर आचार्य बालकृष्ण का कहना है कि पंतजलि ने कोरोना की दवा बनाने में सफलता हासिल कर ली है।

वहीं, अगर एक बार कंपनी के आंकड़ों पर नजर डालें तो इस साल जुलाई-सितंबर तिमाही में उसकी कुल सेल्स 1769 करोड़ रुपए रही है जो पिछले साल समान अवधि में 1576 करोड़ रुपए थी। बता दें कि पतंजलि को लगातार नुकसान उठाना पड़ रहा है।

उन्होंने अपनी रिपोर्ट में खिला - ‘ मैंने देखा कि बेल शरबत और गुलाब शरबत देशी (भारतीय) व अंतरराष्ट्रीय (अमेरिकी) बाजार में पतंजलि ब्रांड के तहत बेचे जाते हैं लेकिन भारतीय बाजार में बेचे जाने वाले इन आइटम के लेबल पर अतिरिक्त औषधीय व पोषण दावों का जिक्र किया गया है।’