piyush goyal

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने के लिए बड़ा एलान किया है। उन्होंने कहा है कि भारतीय रेलवे प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए किसी भी जिले से 'श्रमिक स्पेशल' ट्रेन चलाने को तैयार है।

गहलोत ने रेलमंत्री पीयूष गोयल के उस बयान को सरासर गलत बताया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि राजस्थान सरकार श्रमिक ट्रेनों की अनुमति नहीं दे रही है। 

लॉकडाउन की वजह से 22 मार्च से बंद ट्रेनों को रेलवे 12 मई से आंशिक रूप से शुरू करने जा रहा है। विशेष सुविधा के तहत 30 राजधानी ट्रेन (15 जोड़ी) चलेंगी। देशभर के पंद्रह स्टेशनों के लिए कुछ स्टॉपेज के साथ चुनिंदा ट्रेनें चलाने की तैयारी कर ली है।

मामला दरअसल ये है कि रेल विभाग ने लोगों की फिटनेस को ध्यान में रखते हुए ये अनूठी पहल की है और दिल्ली के आनंद बिहार रेलवे स्टेशन  पर एक मशीन लगाई है जिसके सामने आपको 180 सेकंड में 30 बार दंड-बैठक लगानी होगी।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने सोमवार को कहा कि भारतीय रेलवे को 2024 तक पूरी तरह से विद्युतीकरण करने की उम्मीद है, इसके लिए पहले से ही डीजल इंजनों को धीरे-धीरे सेवा से बाहर किया जा रहा है।

वाणिज्य और उद्योग मंत्री ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका, रूस, सऊदी अरब, स्विट्जरलैंड, कोरिया और सिंगापुर के मंत्रियों के साथ द्विपक्षीय बैठक करेंगे। वह विश्व व्यापार संगठन के महानिदेशक और आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (ओईसीडी) के महासचिव से भी भेंट करेंगे।

मोदी कैबिनेट ने हाल ही में भारतीय रेलवे को कंट्रोल करने वाले रेलवे बोर्ड को 'स्लिम' करने को मंजूरी दी है जिसके बाद अब रेलवे बोर्ड में नौ की जगह सिर्फ पांच सदस्य होंगे। कैबिनेट ने एक और बड़ा फैसला किया है कि रेलवे अधिकारियों के समस्त केंद्रीय सेवा कैडरों का विलय करके सिर्फ एक कैडर कर दिया जायेगा।

इससे पहले, सरकार ने डेडीकेटेड फ्रेट कॉरीडोर बनाने का ऐलान किया था और इस पर काम चल रहा है, फ्रेट कॉरीडोर से मालगाड़ियों की स्पीड में इजाफा होगा तो वहीं दिल्ली-हावड़ा रेलट्रैक पर भी मेल, एक्सप्रेस एवं सुपरफास्ट ट्रेनों की गति में सुधार होगा