police raid

यहां से नकली शराब का कारोबार पकड़ा है। इस मामले में पति-पत्नी, बेटी समेत 12 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। जबकि चार आरोपियों की तलाश की जा रही है

दिल्ली की जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) के छात्र शरजील इमाम अब तक फरार है। जेएनयू छात्र शरजिल इमाम के भारत के टुकड़े-टुकड़े वाले बयान के बाद उसे गिरफ्तार करने के लिए पुलिस जगह-जगह छापे मार रही है।

सेक्टर 18 स्थित मोक्ष स्पा सेंटर पर रविवार शाम एसपी देहात विनित जायसवाल और सीओ ग्रेटर नोएडा प्रथम स्वेताभ पांडेय ने पुलिस बल के साथ छापा मारा। छापेमारी के दौरान पुलिस को कई जोड़ो आपत्तिजनक अवस्था में मिले।

सुलतानपुर: उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर में प्रतिबंधित खैर (कत्था) लकड़ी से कत्था बनाने की फैक्ट्री के मालिक को पुलिस ने शनिवार को अरेस्ट किया है। मौके से पुलिस ने 50 लाख रुपए कीमत का माल भी बरामद किया है। हैरान करने वाली बात ये है कि ये सब कुछ जिले की गोसाईगंज पुलिस की नाक …

पुणे/हैदराबाद: पुलिस ने महाराष्ट्र के कोरेगांव-भीमा दंगों के संबंध में मंगलवार को देश के अलग-अलग शहरों में छापे मारे और पांच मानवाधिकार कार्यकर्ताओं व कथित नक्सल समर्थकों को गिरफ्तार किया। इनमें वामपंथी विचारक वरवर राव भी शामिल हैं। मुंबई, पुणे, गोवा, दिल्ली, तेलंगाना, छत्तीसगढ़ और हरियाणा में 10 जगहों पर छापे मारे गए। पुणे के संयुक्त …

बहराइच: रुपईडीहा में संचालित एक लोकवाणी केंद्र पर अवैध तरीके से नेपाली नागरिकों को भारत का निवासी दिखाकर उनका आधारकार्ड और पैनकार्ड बनाया जा रहा था। सूचना मिलने पर देर रात पुलिस ने छापेमारीकर भारी मात्रा में निर्मित आधार व पैन कार्ड को बरामद किया। इसके साथ ही एक व्यक्ति को हिरासत में लेकर पूछताछ …

कबाड़ी बाजार में पुलिस ने छापेमारी के दौरान दस युवतियां बरामद हुई। पुलिस ने कोठा संचालिका समेत दलाल और ग्राहक को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने एक एनजीओ की शिकायत पर कबाडी बाजार स्थित कोठो पर छापेमारी की।

एटीएस और पुलिस की संयुक्त टीम ने हाथिया गांव पर छाप मारा तो बदमाशों ने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस ने तीन बदमाशों को पकडने सफलता हासिल कर चारों असलहा फैक्ट्रियों से भारी संख्या में बने और अदबने असलहे और कारतूस बरामद किये हैं।

फरार मंत्री गायत्री प्रजापति की तलाश में पुलिस ने जिस फार्म हाउस पर छापा मारा, वह गुटखा के मालिक राजू काया का है। छापे की कार्रवाई के बाद पुलिस टीमें खानापूरी कर कुछ देर में ही चलती बनीं।

आरोपी पिछले दस साल से तमंचे बनाने का काम कर रहे थे। आरोपियों ने भी अब तक करीब दस हजार तमंचे बनाने की बात मानी है। आरोपियों के अनुसार चुनाव के समय तमंचों की डिमांड बढ़ जाती है।