politics

कर्नाटक: कर्नाटक की राजनीति इस वर्ष नये नये नाटक देखने को मिले है, पहले सरकार बनाने का नाटक, फिर बहुमत दिखाने के लिए जोर आजमाइस, अब मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री पद के लिए… बड़ी खबर पहली बार कर्नाटक में तीन उपमुख्यमंत्री बनाये गये है। मुख्यमंत्री बीएस येडियुरप्पा ने लक्ष्मण सावदी, गोविंद एम करजोल और अश्वथ नारायण …

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने शनिवार को राजनीति छोड़ने का इशारा दिया। कुमारस्वामी ने कहा, मैं राजनीति से दूर जाने की सोच रहे हैं।

हम समझ रहे हैं कि कर्नाटक के नाटक का समापन हो गया। विधानसभा में विश्वास का प्रस्ताव क्या गिरा और मुख्यमंत्री डी. कुमारस्वामी ने इस्तीफा क्या दिया, देश के लोगों ने चैन की सांस ले ली लेकिन पिछले 18 दिन से चल रहे इस नाटक का यह पटाक्षेप या अंत नहीं है, बल्कि उसकी यह शुरुआत है।

वहीं, धोनी को लेकर पासवान का कहना है कि वह समाज के रोल मॉडल हैं। अगर वो बीजेपी के साथ आते हैं तो यह पार्टी के लिए काफी अच्छा होगा क्योंकि बीजेपी नेता ने कहा कि वह किसी नेता से ज्यादा जनता को प्रभावित करेंगे।

कांग्रेस पार्टी की नयी नवेली नेता, अरे वही! जो कि बिना राजनीति सीखे ही राजनीतिक सियासत में कूद गयी थी और यूपी में कांग्रेस का बेडागर्क कर दिया।

लोकसभा चुनाव में पराजित होने के बाद कांग्रेस पार्टी अपना ध्यान उत्तर प्रदेश पर केंद्रित कर रही है। 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने अभी से तैयारियां शुरु कर दी है। कांग्रेस पार्टी संगठन में बड़ा बदलाव करके पार्टी का मजबूत करने की योजना में है।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि जनता समझने लगी है कि भाजपा ने अपने झूठ और छल से केंद्र की सत्ता हासिल की है। उसने लोकतंत्र की स्वस्थ परंपराओं और स्वतंत्रता आंदोलन के मूल्यों को तिलांजलि दे दी है।

आयोग के पदेन सदस्यों में शाह के अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त और कार्पोरेट कार्य मंत्री निर्मला सीतारमण, कृषि और किसान कल्याण, ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर शामिल होंगे।

कांग्रेस महासचिव तथा पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा लोकसभा चुनाव 2019 के परिणाम आने के बाद अब समीक्षा कर रही हैं। प्रियंका गांधी शुक्रवार शाम अपने पूर्वजों के स्थान प्रयागराज में रहेंगी।

सपा सुप्रीमों मायावती केवल यूपी में ही गठबन्धन तोडने में आगे नहीं हैं उन्होंने प्रदेश के बाहर दूसरे राज्यों में  भी अन्य दलों के साथ गठबन्धन कर फिर अलग होने का काम किया है। चाहे वह हरियाणा हो अथवा छत्तीसगढ।