politics

आशुतोष सिंह वाराणसी: एक्टिव पॉलिटिक्स में एंट्री के बाद से ही प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को मजबूत करने में जुटी हैं। पिछले दिनों संगठन में लंबा चौड़ा फेरबदल किया गया। कोशिश है कि किसी तरह पार्टी को फिर से जिंदा किया जाए, लेकिन ये इतना आसान नहीं दिख रहा है। पार्टी के अंदर …

बीजेपी के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के गढ़ नागपुर में पार्टी को करारी हार मिली है। नागपुर के धापेवाड़ा में हुए जिला परिषद के चुनाव में बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा है। यहां से कांग्रेस के उम्मीदवार को जीत मिली है।

राजनीति एक ऐसी सीढ़ी है जिस पर दिन पर दिन इससे जुड़े लोग बढ़ने का ही प्रयास करते हैं। पर एक सत्य यह भी है कि कुछ नेता राजनीति की उंचाईयां छूने के बाद भी इससे जुड़े रहने के लिए हर तरह का समझौता करने को तैयार रहते हैं।

भारतीय जनता पार्टी को शिखर तक पहुंचाने वाले भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जयंती 25 दिसंबर को है।राजनीति में धूमकेतु की तरह चमकने वाले अटल बिहारी वाजपेयी जी साल1996 में पहली बार केवल 13 दिन के लिये प्रधानमंंत्री बने थे।

उन्होंने कहा कि अधिकारी नेताओं को बेइमान समझते हैं जबकि वह खुद रिश्वतखोरी कर रहे हैं। यहां तक कि विधायक निधि में भी कमीशन लिया जा रहा है। गुर्जर ने कहा कि नेताओं की सम्पत्ति की जांच तो कराई जाती है पर इन अधिकारियों की भी सम्पत्ति की जांच कराई जानी चाहिए।

हाल ही के घटनाक्रम पर नजर डाला जाये तो यूपी सरकार के शीर्ष नेतृत्व के दो शिखर एक-दूसरे के खिलाफ सामने आते रहें है। यूं तो योगी और मौर्य के बीच मनमुटाव की खबरें इनके सत्ता संभालने के बाद से ही सत्ता के गलियारों और मीडिया

लालू लगातार 11वीं बार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने हैं, मंगलवार दोपहर आरजेडी के संगठन चुनाव में पार्टी कार्यालय में चार सेटों में लालू यादव का नामांकन पत्र दाखिल किया गया।

बाला साहेब के बेटे उद्धव ठाकरे, ठाकरे परिवार के पहले मुख्यमंत्री बन गए है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री की शपथ लेकर उन्होंने इतिहास रच दिया है। लेकिन आप जानते है कि आज से 30-40 साल पहले ठाकरे परिवार के पहले मुख्यमंत्री बने  उद्धव क्या करते थे? उद्धव ठाकरे मुंबई के प्रभादेवी इलाके की संजय सोसाइटी की एक दुकान से खुद का डिस्प्ले एडवरटाइजिंग

दोनो विधायकों ने विधान सभा अध्यक्ष, दीक्षित के समक्ष उपस्थित होकर शपथ ग्रहण की। विधान सभा अध्यक्ष ने उन्हें संविधान, विधान सभा कार्य संचालन नियमावली, स्वलिखित पुस्तक ‘हिन्द स्वराज्य का पुनर्पाठ' एवं संसदीय दीपिका के संविधान अंक की प्रति भेंट की।