politics news

टीआरएस (TRS) के कई नेताओं ने कहा है कि फरवरी में के. चंद्रशेखर राव (K. Chandrasekhar Rao) अपने बेटे के.टी. रामाराव (K.T. Rama Rao) को सीएम बना सकते हैं। इन नेताओं के अलावा सूत्रों के हवाले से भी यह खबर सामने आई है कि अब के. चंद्रशेखर राव (K. Chandrasekhar Rao) अपना ध्यान राष्ट्रीय स्तर की राजनीति पर केंद्रित करना चाहते हैं।

केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल ने एलान किया है कि सरकार ने सुभाष चंद्र बोस की जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मनाने का निर्णय किया है। इस मौके पर होने वाले कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए पीएम मोदी भी कोलकाता पहुंचेंगे। वहीं तृणमूल कांग्रेस पीएम मोदी के इस पूरे कार्यक्रम को सियासत से जोड़कर देख रही है। पार्टी का कहना है कि केंद्र सरकार की नीयत में खोट है।

पूर्वी मिदनापुर जिले के खेजुरी में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेता सुवेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari) की रैली से पहले ही दोनों पार्टियों के बीच यह झड़प हो गई। बीजेपी कैडरों का दावा है कि जब वे सुवेंदु अधिकारी की रैली में शामिल होने के लिए जा रहे थे तो उन पर टीएमसी कार्यकर्ताओं ने हमला किया है।

कर्नाटक के भारतीय जनता पार्टी (BJP) के इन नाराज विधायकों ने मंगलवार को अपनी बैठक करने का ऐलान किया है। हालांकि कर्नाटक सरकार पर फिलहाल किसी तरह के संकट होने की खबरों को खारिज किया गया है।

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस सांसद दिग्विजय सिंह (Congress MP Digvijay Singh) ने भी राम मंदिर निर्माण के लिए दान दिया है। दिग्विजय सिंह ने एक लाख ग्यारह हजार एक सौ एक रुपये (1,11,111 रु.) का चंदा दिया है।

टीएमसी की सांसद शताब्दी रॉय दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात कर सकती हैं। बता दें कि बीते कई दिनों से पार्टी छोड़ने की अटकलें जारी हैं।

भोपाल: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) के नाथूराम गोडसे वाले बयान पर सियासत गरमाती जा रही है। अब भोपाल से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने दिग्विजय सिंह के बयान पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस हमेशा से देशभक्तों के …

ओवैसी ने सपा सुप्रीमो अखिलेश पर निशाना साधते हुए कहा कि उनके कार्यकाल के दौरान मुझे 12 बार पूर्वांचल का दौरा करने से रोका गया। उन्होंने कहा कि आजमगढ़ दंगों के बाद वे 2016 में ही आजमगढ़ आना चाहते थे, लेकिन तत्कालीन अखिलेश सरकार ने उन्हें आने नहीं दिया।

यूपी विधानसभा चुनाव (UP Assembly Elections 2022) को जीतने के लिए अब तो आम आदमी पार्टी ने यूपी के मैदान में अपने 40 विधायकों की फौज भी उतार दी है। ये सभी विधायक या तो उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं या फिर दिल्ली में यूपी वालों की राजनीति करते हैं। इन सबका पहला फोकस पंचायत चुनाव होने वाला है।

टीएमसी पार्टी के कई नेता इन दिनों पार्टी छोड़कर बीजेपी में शामिल हो रहे हैं। बीजेपी दिन पर दिन बंगाल में अपनी पकड़ को मजबूत करती हुई दिख रही है। कई दिग्गज नेताओं के पार्टी से इस्तीफा देने पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि बहुत सारे लोग सेंट्रल जांच एजेंसी के डर से पार्टी से इस्तीफ दे रहे हैं।