pollution

दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सख्ती दिखाई है। देश की सर्वोच्च अदालत ने अहम सुनवाई के दौरान सोमवार को पंजाब सरकार को एक बार फिर फटकार लगाई है। सुप्रीम कोर्ट ने मुख्य सचिव (पंजाब) से कहा कि हम राज्य की हर मशीनरी को इसके लिए जिम्मेदार ठहराएंगे।

दरअसल, संसद के उच्च सदन राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान बीजेपी के सदस्य लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) डीपी वत्स ने जब पूरक प्रश्न पूछते समय यह बात कही तो सदन में बैठे सदस्यों ने चेहरे पर हंसी आ गई।

दिल्ली के प्रदूषण पर मंगलवार को संसद में चर्चा हुई और सांसदों ने अपनी-अपनी राय दी। अब इस बीचराष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी प्रदूषण को लेकर चिंता जाहिर की है।

दिल्ली में बढ़ रहे वायु प्रदुषण पर सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा है कि दिल्ली में एयर क्लीनिंग डिवाइस क्यों नहीं है। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने पूछा है कि चीन कैसे प्रदुषण को कैसे नियत्रिंत किया है। अपने पास ऐसी व्यवस्था क्यों नहीं है।

याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ऑड-ईवन के लागू होने के बाद 14 नवंबर तक का डेटा दिल्ली सरकार कोर्ट को दे। इसके साथ ही आपको बता दें कि दिल्ली में लगातार बढ़ रहे प्रदूषण की वजह से सरकारी और प्राइवेट स्कूल 2 दिनों के लिए रहेंगे बंद रखने का फैसला किया है।

डीएम शुभ्रा सक्सेना शहर में बढ़ते प्रदूषण के कारण बदल रही आबोहवा को लेकर एक्शन में आ गई हैं। कड़े तेवर दिखाते हुए डीएम ने 16 प्वाइंटों की गाइड लाइन जारी की है।

पूर्णिमा श्रीवास्तव गोरखपुर। देश की राजधानी दिल्ली की जहरीली आब-वो-हवा परेशान हो कर घर वापसी कर रहे पूर्वांचल के लोगों को यहां भी खास राहत नहीं मिल रही है। गोरखपुर में निर्माण कार्यों में मानकों की ऐसी-तैसी, एनजीटी के आदेश के बाद भी अस्पताल से लेकर पॉलीथिन मिश्रित कचरे को खुले में जलाने और किसानों …