prayagraj

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में शनिवार को दिन दहला देने वाली घटना सामने आई है। यहां सीआरपीएफ ग्रुप सेंटर पडिला में सुबह सीआरपीएफ जवान विनोद कुमार यादव ने पत्नी व दो बच्चों की गोली मारकर हत्या कर दी।

प्रयागराज में एक ही परिवार के चार लोगों की हत्या से सनसनी फैल गई थी। जिनमे में तीन महिलाएं और एक पुरुष की हत्या की गई थी। परिवार के एक साथ चार लोगों की हत्या पुलिस के लिए एक पहेली बनकर रह गयी थी और समझ से परे था।

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में एक ही परिवार के चार लोगों की हत्या कर दी गई। जिनमे में तीन महिलाएं और एक पुरुष हैं। एक साथ चार लोगों की हत्या से इलाके में सनसनी फैल गयी। फिलहाल इनकी हत्या किस वजह से की गई ये अभी पता नही चल पाया है।

केंद्र के खाते में चले जाने के बाद से प्रयागराज में एक राज्य विश्वविद्यालय की माँग चल रही थी। अखिलेश यादव की सरकार आई तो उन्होंने वहाँ एक राज्य विश्वविद्यालय बनाया। पूर्व संघ प्रमुख रज्जू भइया के नाम पर इसका नामकरण किया गया है। डॉ. मुरली मनोहर जोशी एवं रज्जू भइया इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्र और अध्यापक दोनों रहे है।

प्रयागराज में गुरुवार को एक ही परिवार के तीन लोगों की हत्या से सनसनी फैल गयी। मांडा थाना अंतर्गत बीती रात एक ही परिवार के तीन लोगों की गला रेतकर हत्या कर दी गयी।

दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों को श्रमिक एक्सप्रेस जैसी स्पेशल ट्रेन चलाकर उन्हें उनके घर पहुंचाने की मुहिम शुरू कर दी गयी है।

जिलाधिकारी भानु चंद्र गोस्वामी ने रेलवे के उच्चाधिकारियों के साथ प्रयागराज जंक्शन का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने प्रयागराज जंक्शन में बनाये गये आश्रय स्थलों का जायजा लेते हुए की गयी व्यवस्थाओं की जानकारी ली।

मण्डलायुक्त आर रमेश कुमार ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ कोविड-19 से निपटने एवं प्रवासी मजदूरों की वापसी पर की जा रही तैयारियों की समीक्षा की। मण्डलायुक्त ने कहा कि आने वाले समय में...

इस दौरान बातचीत में छात्रों ने बताया कि लाॅकडाउन में गरीबों के लिए तो प्रशासन व कई संस्थाएं भोजन व राशन उपलब्ध करा रहीं थीं लेकिन उन सबके लिए किसी के भी हाथ आगे नही बढ़े जिसके कारण आने वाले दिनों में उन लोगों के समक्ष भोजन का संकट उत्पन्न हो जाता।