prayagraj

'कुंभ' के मनोहारी दृश्य गंगा, यमुना और सरस्वती का पावन सुरम्य त्रिवेणी संगम आस्था का सैलाब मानस कुंभ को मथने लगते हैं क्योंकि आध्यात्मिक जगत में ये अमृत की बूंदें हमारे घट में भी हैं। सत संगति, सच्चे साधु, संत और गुरुकृपा हमें अमृत का ज्ञान करा देती है।

इस समय देश और दुनिया में सिर्फ एक नाम गूंज रहा है और वो है कुंभ का। कुंभ को विश्व का सबसे बड़ा धार्मिक आयोजन या मेला माना जाता है। इतनी बड़ी संख्या में सिर्फ हज के दौरान ही मक्का में मानव समुदाय इकट्ठा होता है।

कुंभ में हुंकार भरते, शरीर पर भभूत लगाए नाचते-गाते नागा बाबाओं को अक्सर आप ने देखा होगा, लेकिन कुंभ खत्म होते ही ये नागा बाबा न जाने किस रहस्यमयी दुनिया में चले जाते हैं, इसका किसी को नहीं पता। नागा साधु आखिर कहां से आते हैं और कुंभ के बाद कहां जाते हैं?

प्रयाग का कुंभ सनातनी वैभव व भारत की आध्यात्मिक शक्ति का केंद्र है। इस कुंभ से न सिर्फ भारत बल्कि पूरी दुनिया को एक नई दिशा मिलनी है। इस कुंभ के जरिये गंगा व पर्यावरण संरक्षण के अभियान को नया विस्तार मिलना तय है। पर्यावरण के लिए मूल तत्वों में जल का अभिन्न स्थान है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज यानी गुरुवार को प्रायगराज के दौर पर हैं। इस दौरान सीएम योगी वे कई विकास कार्यों का लोकार्पण किया। किले में अक्षयवट और सरस्वती कूप को आम जनता के दर्शनार्थ के लिए खोला। साथ ही सीएम ने सरस्वती की प्रतिमा का लोकार्पण किया।

कुंभ मेले में स्वास्थ्य विभाग की तरफ से श्रद्धालुओं की सहूलियत के लिए इस बार ‘एयर‘ व ’रिवर एम्बुलेंस‘ की व्यवस्था की गई है। इसकी सुविधा मेले में आरंभ हो गई है। श्रद्धालुओं को जरूरत पड़ने पर एयर एम्बुलेंस से ‘पीजीआइ‘ या ‘एम्स‘ पहुंचाया जाएगा। यह विभाग मेले में सफाई और इलाज के साथ ही आपदा प्रबंधन का भी काम कर रहा है।

बीजेपी पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव हार चुकी है। इसके बाद अब बीजेपी का पूरा ध्यान सिर्फ लोकसभा चुनाव पर है। इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कमर कस ली है। आज पीएम मोदी मिशन यूपी पर हैं।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने इलाहाबाद जिले व मण्डल का नाम बदलकर प्रयागराज करने की राज्य सरकार की अधिसूचना की वैधता चुनौती याचिका पर निर्णय सुरक्षित कर लिया है।  

इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज करने की सरकारी अधिसूचना की वैधता की चुनौती याचिका की सुनवाई जारी है। अगली सुनवाई चार दिसंबर को होगी। कोर्ट ने नाम बदलने की कार्यवाही को देखने के लिए पत्रावली तलब की है।