pregnant woman

मध्य प्रदेश के इंदौर में एक निजी अस्पताल के अंदर प्रसूता के साथ अभद्रता किये जाने का मामला सामने है। प्रसूता के परिजनों का आरोप है कि अस्पताल के स्टाफ ने प्रसूता को थप्पड़ मारा।

एक बार फिर खाकी को शर्मसार करने का मामला सामने आया है। चर्चा में रहने वाली हरदोई पुलिस ने  फिर पूरे प्रदेश की पुलिस को शर्मसार कर दिया है। पुलिस ने घर में घुसकर गुरुवार (4 जनवरी) को घर मे मौजूद परिजनों के साथ-साथ गर्भवती महिला को लात घुसो से पीट दिया जिस कारण महिला की हालत गंभीर बनी हुई।

आमिर खान और करीना कपूर की फिल्म थ्री इडियट तो आपने देखी ही होगी। फिल्म का वो सीन भी याद होगा जिसमें आमिर अपने दोस्तों के साथ एक महिला की डिलिवरी कराते हैं। कुछ ऐसी तस्वीर देखने को मिली महामना एक्सप्रेस ट्रेन में बैठे मुसाफिरों को। चलती ट्रेन में जब एक महिला लेबर पेन से कराह रही थी तो उसकी मदद के लिए आगे आया एनडीआरएफ का जवान प्रमोद कुमार। मुश्किल की इस घड़ी में प्रमोद ने मोर्चा संभाला और फोन पर डॉक्टर की मदद से महिला की सफल डिलिवरी कराई।

शाहजहांपुर: प्रदेश का स्वास्थ्य विभाग सुधरने वाला नहीं है। यही वजह है कि आए दिन स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही सामने आती रहती है। ताजा मामला यूपी के जिला महिला अस्पताल के बाहर का है, जहां प्रसव पीड़ा होने पर गर्भवती महिला को दो दिन पहले अस्पताल मे भर्ती कराया गया। डॉक्टर ने डिलीवरी में टाइम …

न्यायमूर्ति मदन बी.लोकुर तथा न्यायमूर्ति ए.एम.खानविलकर की पीठ ने गर्भवती महिला तथा भ्रूण की जांच करने वाले मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट देखने के बाद महिला का एसएसकेएम हॉस्पिटल में गर्भपात कराने का निर्देश दिया।

नई दिल्ली : सर्वोच्च न्यायालय ने सोमवार को कोलकाता की 26 सप्ताह की एक गर्भवती महिला को गर्भपात की अनुमति दे दी, क्योंकि महिला के गर्भ में पल रहा भ्रूण गंभीर विकृतियों से ग्रस्त है। न्यायमूर्ति मदन बी.लोकुर तथा न्यायमूर्ति ए.एम.खानविलकर की पीठ ने गर्भवती महिला तथा भ्रूण की जांच करने वाले मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट …

अराजक लोगों द्वारा महिला को चलती ट्रेन से फेकने पर वह प्लेटफार्म और पटरी के बीच की जगह में फंस गई। ट्रेन वहां से धीरे-धीरे गुजरी और गर्भवती महिला की जान बच गई। महिला को चलती ट्रेन से फेंकने के कारण उसको काफी चोटे आई है। इसके बाद उसको स्थानीय लोगों ने जिला अस्पताल में भर्ती कराया। डॉक्टरों ने इस महिला के जिंदा बच जाने को चमत्कार माना है।

परिजन गंभीर हालत में गर्भवती को लेकर कानपुर के हैलेट हॉस्पिटल पहुंचे। यहां गर्भवती महिला के पति को डॉक्टरों ने अपमानित किया। इसके बाद गर्भवती को 24 घंटे तक HIV वार्ड में एक एड्स पीड़ित के साथ एक ही बेड पर लिटाया गया। यहां डॉक्टरों ने एक बार फिर HIV टेस्ट कराया। इसमें महिला की HIV रिपोर्ट निगेटिव पाई गई।