priyanka gandhi

प्रियंका गांधी ने सीएम योगी को अपने बयान का आधार बताने को कहा जिसमें उन्होंने कथित तौर पर दावा किया था कि बड़ी संख्या में दूसरे राज्यों से आ रहे कामगार कोरोना वायरस संक्रमित हैं।

प्रवासी मजदूरों को यूपी लाने के लिए आयी कांग्रेस की बसें भले ही वापस लौट गई हो लेकिन कांग्रेस महासचिव व यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी प्रवासी मजदूरों को लेकर अभी भी यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर हमलावर है।

प्रियंका गांधी, राहुल गांधी जैसी वीवीआईपी हस्तियों की सुरक्षा की जिम्मेदारी संभालने के महीनों बाद केंद्रीय रिजर्व पुलिस फोर्स (सीआरपीएफ) ने एक नया वीआईपी सिक्यॉरिटी विंग बनाया है।

कांग्रेस ने विधायक अदिति सिंह को पार्टी की महिला विंग के महासचिव पद से निलंबित कर दिया गया है। साथ ही उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू कर दी है।

उत्तर प्रदेश में 1000 बसों को लेकर बीजेपी और कांग्रेस के बीच जंग जारी है। श्रमिकों के लिए बस पर छिड़ी सियासत के बीच प्रियंका गांधी की चिट्ठी कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के नाम सामने आई है।

राजधानी लखनऊ स्थित हजरतगंज पुलिस थाने में प्रियंका गांधी के निजी सचिव संदीप सिंह और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

कोरोना महामारी के कारण देश भर में लागू लाकडाउन के कारण सभी तरह की आवाजाही पर पूरी तरह से रोक है। ऐसे में विभिन्न प्रदेशों में फंसे प्रवासी मजदूरों को उनके गृह प्रदेश तक पहुंचाने के लिए बसों के मुद्दे को लेकर कांग्रेस व भाजपा के बीच लगातार तकरार चल रही है।

श्रमिकों को उनके घर पहुंचाने के मुद्दे पर यूपी की राजनीति गरम हो गयी है। जहां कांग्रेस श्रमिकों को उनके गृह जनपद भेजने के लिए बसे उपलब्ध कराने के बाद राज्य सरकार पर बाधा उत्पन्न करने का आरोप लगाया है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने यूपी के प्रवासी मजदूरों को लाने के लिए बीती 16 मई को 1000 बसे देने का प्रस्ताव यूपी सरकार को देते हुए अनुमति मांगी थी।