protest

मांगों के समर्थन में नारेबाजी एवं पट्टिकाओं के साथ मंडल की समस्त शाखाओं ने अपने शाखा सचिव के नेतृत्व में प्रदर्शन किया। इसमें लेखा शाखा के सचिव सुरेश कुमार राय, नीरज दुबे, महेन्द्र सैन, राजेश गुप्ता, भानु प्रताप सिंह चंदेल, वर्कशाप शाखा नंबर एक,दो, तीन से इंद्रविजय, कामता साहू, संजीव नायक ने प्रदर्शन का नेतृत्व किया।

कार्यकर्ताओं को साफ तौर पर कहना है कि सरकार डीजल और पेट्रोल की कीमतें कम करें यह देश के हर वर्ग के लोगों पर महंगाई की मार है। अगर जल्द ही सरकार ने पेट्रोल डीजल की कीमतें नहीं घटाई तो यह बाईक के पेड़ों पर और छतों पर ही टंगी नजर आएंगी ।

देश में लगातार पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है। अब इसके लेकर राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता तेजस्वी यादव और तेजप्रताप यादव सड़कों पर उतरकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

सीएए व एनआरसी के विरोध में हुए प्रदेशव्यापी आंदोलन के अंतर्गत गत 19 दिसंबर को लखनऊ में एक व्यक्ति की मौत हुई थी और कई घायल हुए थे। प्रदेश के विभिन्न जिलों में हुई हिंसा में कुल 23 लोगों की मौत हुई और पुलिस कर्मियों समेत लगभग 600 लोग घायल हुए थे।

अमेरिका में अश्वेत अमेरिकी जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद प्रदर्शन ने उग्र रूप ले लिया है। अमेरिका के 30 शहर हिंसा की आग में झुलस गए हैं। इसकी आंच रविवार को व्हाइट हाउस तक पहुंच गई।

टना शाहजहांपुर के थाना आरसी मिशन की है। मोहल्ला पुत्तु लाल चौराहे निवासी शकील नाम का शख्स मीट का कारोबार करते है। बीती रात पुलिस उनको लाईसेंस चेक करने के नाम पर घर से उठा लाई थी। उसके बाद सुबह तक उनको थाने मे ही बैठाए रखा।

यह अभियान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से प्रेरित है। उन्होंने कहा कि मोदी जी ने इस महामारी में जुटे कर्म योगियों के सम्मान में थाली बजवाया था।

कोरोना वायरस से निपटने के लिए देश में लाॅकडाउन लगा हुआ है। 18 मई से लाॅकडाउन का चौथा चरण शुरू होगा। इस बीच देश के कई राज्यों से प्रवासी मजदूरों अपने घर वापस लौट रहे हैं।

केंद्र व प्रदेश सरकार द्वारा कर्मचारियों के डीए व अन्य भत्तों में कटौती के विरोध में आगामी 1 मई को दोपहर 12 बजे देश भर के कर्मचारी अपने घरों पर मोमबत्ती जलाकर सरकार के इस फैसले का विरोध करेंगे।

कोरोना वायरस देशभर में तेजी से पांव पसरा रहा है। इस महामारी से निपटने के लिए सरकार ने देश में 3 मई तक लाॅकडाउन का एलान किया है। लॉकडाउन के बावजूद मंगलवार शाम बांद्रा स्टेशन पर हजारों प्रवासियों की भीड़ जमा हो गई।