punjab

अमृतसर के जलियांवाला बाग के नरसंहार कांड के आज यानी शनिवार को 100 साल पूरे हो गये हैं। इस मौके पर वहां एक खास कार्यक्रम होने वाला है, जिसमें शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाएगी।

पुलिस ने कहा कि अधिकारी नेहा शौरी खरड़ में दवा एवं खाद्य रासायनिक प्रयोगशाला में तैनात थी और वह मोहाली तथा रोपड़ जिलों के लाइसेंस का काम संभालती थी।

पिछले लोकसभा चुनाव में जहां देश में प्रचंड मोदी लहर चल रही थी। वहीं पंजाब में आम आदमी पार्टी ने अच्छा प्रदर्शन किया था। फिलहाल आप जानिए पिछले चुनाव में पंजाब की लोकसभा सीटों पर किसे मिली थी जीत और किसे मिला हार का गम।

पंजाब के फिरोजपुर में बीएसएफ की पोस्ट के नजदीक जासूसी करते हुए पकड़ा गया संदिग्ध युवक जनपद मुरादाबाद के बिलारी क्षेत्र का रहने वाला है।और पिछले छह महीने से पंजाब में ही फेरी लगा कर कपड़े बेचने का काम करता है।

पुलवामा आतंकी हमले पर जिस तरह भारत ने जवाब दिया है, उससे डर कर पाकिस्तान ने आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर की सुरक्षा को कड़ा कर दिया है। बहावलपुर में प्रतिबंधित जैश मुख्यालय को पंजाब सरकार ने अपने कब्जे में ले लिया है।

पंजाब सरकार ने शनिवार को बड़े स्तर प्रशासनिक फेरबदल किया है। पंजाब की अमरिंदर सरकार ने आईएएस अधिकारियों और 66 पीसीएस अधिकारियों को तबादला कर दिया है।

दिल्ली की सत्ताधारी आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने बरनाला में लोकसभा चुनाव के लिए पार्टी के प्रचार अभियान की शुरुआत से पहले कहा, पार्टी सभी 13 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। आम आदमी पार्टी ने संगरूर, फरीदकोट, होशियारपुर, अमृतसर और आनंदपुर साहिब में अपने उम्मीदवारों के नाम घोषित कर दिए हैं ।

लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) और कांग्रेस के बीच गठबंधन की सभी संभावनाएं खत्म हो गई हैं। आप ने साफ कर दिया है कि वह किसी से गठबंधन नहीं करेगी। आप ने शुक्रवार ऐलान किया है कि वह दिल्ली, पंजाब और हरियाणा में अकेले चुनाव लड़ेगी।

लोकसभा चुनाव 2019 में चंद महीने बचे हैं। इससे पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी(आप) को एक और झटका लगा है। पार्टी विधायक बलदेव सिंह ने आप से इस्तीफा दे दिया है। पंजाब के जैतो विधानसभा से बलदेव सिंह विधायक हैं।

देश के सुदूर ग्रामीण इलाकों में स्वास्थ्य सेवाओं की हाल बदतर है। दरअसल पेशेवर चिकित्सक गांवों की ओर रूख करना नहीं चाहते। ग्रामीण इलाकों में बने हुए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर शायद ही डॉक्टरों के दर्शन हो पाते हैं। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर डॉक्टरों का इतना अभाव होने के पीछे डॉक्टरों की कमी वजह नहीं है बल्कि इसकी वजह कुछ और ही है।