rahul gandhi

मोदी सरकार को किसानों की मांगें माननी ही होंगी और काले कानून वापस लेने होंगे। ये तो बस शुरुआत है। किसानों के आंदोलन को राहुल गांधी ने ही पंजाब पहुंचकर शुरू कराया था।

पूर्व केंद्रीय मंत्री और पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने पार्टी के कामकाज के तरीके पर एक बार फिर सवाल उठाए हैं। आजाद ने कहा कि सच्चाई तो यह है कि हमारी पार्टी का ढांचा ढह चुका है और हमें इसे फिर से तैयार करने की जरूरत है।

किताब में राहुल गांधी को लेकर कुल जमा छह पंक्तियाँ हैं। ऐसा लगता है कि देश भर में संगठित रूप से फैले राहुल के आलोचकों की ‘जमात’ ने हज़ार पन्नों की अंग्रेज़ी किताब को पूरा पढ़ भी लिया और अपने मतलब के अर्थ भी निकाल लिए जो इस समय चर्चा में हैं।

कांग्रेस के नए अध्यक्ष का चुनाव जनवरी में प्रस्तावित है, मगर उससे पहले ही संगठन की कमजोरी को लेकर घमासान काफी तेज हो गया है। इस बीच खबर आ रही है कि देश की सबसे पुरानी पार्टी अध्यक्ष को चुनने के लिए एक नया तरीका अपनाने जा रही है

झारखंड के गोड्डा से कांग्रेस सांसद रहे फुरकान अंसारी ने पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व को लेकर गंभीर सवाल उठाए हैं। बोकारो में मीडिया कर्मियों से बात करते हुए उन्होने कहा कि, बिहार चुनाव जीता जा सकता था लेकिन पार्टी ने कमज़ोरियों पर ध्यान नहीं दिया।

राहुल गांधी को पसंद करते हुए भी ओबामा ने उन्हें आत्मविश्वासरहित उथला-सा नौजवान बताया है। इसे लेकर राहुल पर आक्रमण करने की जरुरत क्या है ?

भारतीय रिजर्व बैंक ने लक्ष्मी विलास के बाद एक और बैंक पर पाबंदी लगा दी है। इसके बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक बार फिर केंद्र सरकार पर हमला बोला है। राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए पूछा कि ये देश का विकास है या विनाश?

बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी की नाराजगी पर भी मनोज तिवारी ने खुलकर बात की। उन्होंने कहा कि सुशील मोदी के ट्वीट का गलत अर्थ निकाला गया।

अमित शाह ने कहा कि जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और हमेशा अभिन्न अंग रहेगा। भारत के लोग अपने राष्ट्रीय हितों के खिलाफ किसी तरह के अपवित्र ग्लोबल गठबंधन को स्वीकार नहीं करेंगे।

राहुल गांधी ने नीतीश सरकार को घरते हुए ट्वीट करके कहा, "किसका अपराध ज़्यादा ख़तरनाक है, जिसने ये अमानवीय कर्म किया? या जिसने चुनावी फ़ायदे के लिए इसे छुपाया ताकि इस कुशासन पर अपने झूठे 'सुशासन' की नींव रख सके?"