Ram Temple

वैश्विक महामारी कोरोना से बचाव के लिए समूचे देश को लॉकडाउन करने से श्रीरामजन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण की तैयारी को झटका लगा है। अब चार अप्रैल को होने वाली श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की बैठक को स्थगित करने की तैयारी है, जल्द ही इसकी अधिकृत घोषणा होगी।

लगभग 70 साल बाद रामलला अपने मंदिर से बाहर निकलेंगे। बता दें कि 22-23 दिसंबर 1949 की रात में सर्दी और कोहरे के बीच रामलला उस ऐतिहासिक इमारत में दाखिल हुए थे जो 6 दिसंबर 1992 को टूटा था तो रामलला को किसी तरह सुरक्षित निकाल लिया गया। उसी शाम गर्भगृह के मलबे पर रामलला को तिरपाल के नीचे स्थापित कर दिया गया था।

हालांकि कहा यह जा रहा है कि मंदिर का मॉडल जिस ढंग का है उसमें इन शिलाओं का इस्तेमाल संभव नहीं हो पाएगा। और श्री मिश्र का ध्यान प्रस्तावित मंदिर के स्तंभ, छत की बीम, छत की आंतरिक बनावट, नक्काशी की ओर ही था, उन्होंने चंपक राय से जानकारी मांगी तो उन्हें बताया गया कि होली के बाद शिलाओं की सफाई का काम शुरू हो जाएगा

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए 'श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट' के महासचिव चंपत राय का कहना है कि मंदिर के लिए प्रस्तावित गर्भगृह की भूमि की मिट्टी का पहले परीक्षण कराया जाएगा और उसके बाद ही शिलान्यास होगा।

अयोध्या में राम मंदिर बनाने पर मोदी सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को लोकसभा में राम मंदिर ट्रस्ट बनाने का ऐलान किया। इस..

मोदी सरकार ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की दिशा में कदम बढ़ा दिया है। केंद्र सरकार ने अयोध्या से जुड़े सुप्रीम कोर्ट के फैसले के क्रियान्वयन की निगरानी के लिए एक डेस्क का गठन कर दिया है। अतिरिक्त सचिव जिनेश कुमार के नेतृत्व वाली टीम शीर्ष अदालत के फैसले से जुड़े सभी मामलों को देखेगी।

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण से पहले विश्व हिंदू परिषद (VHP) ने एक बड़े कार्यक्रम का ऐलान किया है । विश्व हिंदू परिषद देश के 2.75 लाख गांवों में भगवान राम की प्रतिमा लगाएगा।