ramayana

आज के समय के टीवी शो और 80 के दशक के टीवी शो की बात ही अलग थी। उस समय हर घर में टीवी नहीं हुआ करते थे, और आज की तरह इतने चैनल भी नहीं थे। सिर्फ दूरदर्शन था जो हर वर्ग को ध्यान में रखकर कार्यक्रम दिखाता था तभी तो इस वक्त की बात ही अलग थी।

दूरदर्शन पर रामायण में  रावण का वध हो चुका है, और उत्तर रामायण शुरू हो गया है। जिसमे राजा राम व लव-कुश के जन्म की कथा का वर्णन हैं। सीता समेत श्रीराम चंद्र जी वनवास पूरा करके वापस अयोध्या आ गए हैं।  कहने का मतलब ये है कि प्रभु श्रीराम के जीवनकाल में एक समय ऐसा भी आया जब जिसने उन्हें राजगद्दी से हटाकर 14 साल का वनवास दे दिया।

लॉकडाउन के बीच करीब 33 साल बाद पौराणिक धारावाहिक रामायण की दूरदर्शन पर दोबारा वापसी हो गई है। एक समय का सुपरहिट-डुपरहिट रहा ये शो इस दौर में भी जबरदस्त हिट साबित हो रहा है। खुद भगवान राम का किरदार निभाने वाले अभिनेता अरुण गोविल और लक्ष्‍मण की भूमिका निभाने वाले सुनील लहरी भी दर्शकों का आभार जताते देखे गए थे।

लोगों के बीच आज भी रामायण की लोकप्रियता कम नहीं हुई है। साथ ही इस सीरियल के कलाकारों को आज भी उतना ही प्यार दिया जाता है, जितना की उन्हें पहले दर्शकों से मिलता था।

'रामायण सीरियल का 4 अप्रैल 2020 के दिन दिखाया गया एपीसोड मेरे लिये किसी पुनर्जन्म पुर्नजन्म से कम नहीं है। 45 वर्षों से मुझे जिस प्रसिद्ध की चाह थी, वह अब जाकर मुझे प्राप्त हुई है'।

लॉकडाउन के दौरान सभी अपने-अपने घरों में कैद हैं और ऐसे में सभी के घरों में रामायण खूब देखी जा रही है। लोग पहले की ही तरह इस रामायण के टाइमिंग पर एक साथ हो कर इस धारावाहिक को देख रहे हैं।

दुर्गेश पार्थसारथी, अमृतसर : जीवन पर्यंत मर्यादाओं में बंधे श्री राम यदि मर्यादा पुरुषोत्‍तम हैं तो केवल अपनी मार्याओं के कारण। भगवान श्री राम की महिमा का बखान सबने अपने अपने ढंग से किया है।

कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए देश में घोषित 21 दिनों के लॉकडाउन के दौरान घरों पर लोगों का वक्त नहीं कट रहा। लोगों की बोरियत दूर करने के लिए दूरदर्शन भी आगे आया है।

महामारी कोरोना के बढ़ते संक्रमण से पूरा देश 21 दिनों के लिए लॉकडाउन कर दिया गया है। जिसके चलते सभी को अपने घर पर ही रहना होगा। लेकिन ऐसी परिस्थिति में लोगों के लिए टाइम बिताना बहुत बड़ा मुद्दा बना हुआ है।

हिंदू धर्म में रामायण ग्रंथ को बहुत ​ही विशेष माना जाता है। इस ग्रंथ में बहुत मनुष्यों के बारे में बहुत कुछ बताया गया है, तो आइए आपको इस ग्रंथ के अनुसार बताते है कि आखिर कौन से वो लोग होते हैं जिनके पास पैसा नहीं टिकता है..