ramjanmabhoomi

5 अगस्त देश के लिए बहुत अहम और खास दिन है। इस दिन अयोध्या में रामजन्मभूमि मंदिर के निर्माण के लिए आयोजित भूमिपूजन समारोह में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शिरकत करेंगे।

केन्द्र और प्रदेश मे सत्ता पर काबिज भाजपा सरकारों के आज दौर में जिस अयोध्या की रामजन्मभूमि पर मंदिर निर्माण की तैयारियां चल रही है।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन के संबंध में दिए गए सुझाव पर विश्व हिंदू परिषद ने तीखी प्रतिक्रिया जताई है।

रामजन्मभूमि अयोध्या में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को भव्य मंदिर की आधारशिला रखेंगे। इस बीच भूमि-पूजन में तीन चरणों में विधि-विधान से पूरी पूजा संपन्न कराई जाएगी।

अयोध्या में रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की बैठक शुरू हो गई है। इस बैठक में मंदिर के शिलान्यास की तारीख की भी घोषणा हो सकती हैं। ऐसे में ये माना जा रहा है कि मंदिर का निर्माण 5 अगस्त से शुरू हो सकता है।

लॉक डाउन का द्वितीय चरण जारी होने के बाद अयोध्या का जिला प्रशासन काफी सख्ती से कोरोना को कुचलने के लिए हर संभव कदम उठा रहा है।

कहानी है बाबर के समय की। मीर बाकी मुगल बादशाह बाबर का कमाडंर था और बाबर के साथ ही भारत आया था। मीर बाकी ने अपने बादशाह बाबर के नाम पर ही अयोध्या में मस्जिद बनवाई थी।

लखनऊ : पिछले पांच दशकों से यूपी भाजपा की राजनीति में केन्द्र बिन्दु रहे कल्याण सिंह अब एक बार फिर नई भूमिका में है। प्रदेश अध्यक्ष से लेकर राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और मुख्यमंत्री से लेकर राज्यपाल रहने के बाद अब वह एक सामान्य कार्यकर्ता की भूमिका में इस बार सक्रिय हुए हैं। कहने को भले ही …

अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में रोजाना सुनवाई जारी है। इस सुनवाई का बुधवार को छठा दिन था। इस सुनवाई के दौरान मंगलवार को इस मुद्दे को लेकर बहस शुरू हुई कि क्या इस विवादित स्थल पर पहले कोई मंदिर था।

नरसिम्हा ने कहा कि तीन सदस्यीय समिति को न्यायालय द्वारा सौंपे गये राम जन्मभूमि विवाद के इस मामले में अधिक कुछ नहीं हो रहा है। इस पर पीठ ने जानना चाहा कि क्या आपने शीघ्र सुनवाई के लिये आवेदन किया है। इस पर नरसिम्हा ने सकारात्मक जवाब दिया।