rashifal

माह – आश्विन,तिथि – पूर्णिमा ,पक्ष – शुक्ल, वार – रविवार,नक्षत्र – उत्तराभाद्रपद ,सूर्योदय – 06:20,सूर्यास्त – 17:54,चौघड़िया  चर – 07:50 से 09:16,लाभ – 09:16 से 10:41,अमृत – 10:41 से 12:07,शुभ – 13:33 से 14:59। आज से कार्तिक मास के लिए दीपदान शुरु होगा। इस पूर्णिमा पर स्नान दान करने से जन्म-जन्मांतर के पाप छूट जाते हैं।आज बाल्मिकी जयंती है।

माह – आश्विन,तिथि – नवमी,पक्ष – शुक्ल,वार – सोमवार, नक्षत्र –उत्तराषाढ़ा  तक,सूर्योदय – 06:16,सूर्यास्त – 18:00, चौघड़िया अमृत – 06:21 से 07:48,शुभ – 09:15 से 10:42,चर – 13:36 से 15:03,लाभ – 15:03 से 16:30। नवरात्रि का नौवा दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा का दिन है। इस दिन पूजा करने से मां हर मनोकामना पूर्ण करती है।

नवरात्रि एक लोकप्रिय पर्व है। ये पूरे देश में अनेक रूपों में मनाया जाता है। नौ दिनों तक देवी के अनके रुपों की पूजा की जाती है।  (दुर्गा, काली या वैष्णोदेवी) के भक्त नवरात्रि की अष्टमी या नवमी को छोटी कन्याओं(लड़कियों) की पूजा करते हैं। कन्या पूजन में देवी के नौ रूपों की पूजा होती है। छोटी लड़कियों की पूजा करने के पीछे बहुत सरल कारण छिपा है।

जयपुर : माह – आश्विन, तिथि – तृतीया , पक्ष – कृष्ण , वार – मंगलवार, नक्षत्र – अश्विनी – पूर्ण रात्रि तक सूर्योदय – 06:06, सूर्यास्त – 18:24, चौघड़िया चर – 09:13 से 10:44,लाभ – 10:44 से 12:15, अमृत – 12:15 से 13:47, शुभ – 15:18 से 16:49

माह – आश्विन,तिथि – प्रतिपदा ,पक्ष – कृष्ण,वार – रविवार,नक्षत्र – उत्तराभाद्रपद,सूर्योदय – 06:05,सूर्यास्त – 18:26, चौघड़िया चर – 07:41 से 09:13, लाभ – 09:13 से 10:45, अमृत – 10:45 से 12:16, शुभ – 13:48 से 15:20

माह भाद्रपद,तिथि चतुर्दशी – 07:37,पक्ष – शुक्ल,वार – शुक्रवार,नक्षत्र – शतभिषा ,सूर्योदय – 06:04,सूर्यास्त – 18:29,चौघड़िया चर – 06:08 से 07:41,,लाभ – 07:41 से 09:13,अमृत – 09:13 से 10:45, शुभ – 12:17 से 13:49,चर – 16:53 से 18:25।

माह  भाद्रपद, तिथि  द्वितीया ,पक्ष  शुक्ल,वार रविवार,नक्षत्र  उत्तरा फाल्गुनी ,सूर्योदय 05:58, सूर्यास्त 18:43,राहुकाल – 17:07 से 18:43। रविवार के दिन भगवान सूर्य को जल दें। और गणेश भगवान के आगमन की तैयारी में लगने के लिए शुभ दिन है।

पक्ष-कृष्ण,पक्ष,वार-बुधवार,तिथि-त्रयोदशी,नक्षत्र- पुष्य,सूर्य राशि  सिंह,चंद्र राशि-कर्क,राहुकाल-12:22 - 13:58, सूर्योदय-05:57 ,सूर्यास्त-18:48 । भगवान विष्णु की पूजा से अपने दिन की शुरुआत करें। उत्तम फल मिलेगा।

माह – भाद्रपद, तिथि – अष्टमी – 08:34, पक्ष – कृष्ण, वार – शनिवार, नक्षत्र – रोहिणी , सूर्योदय – 05:54, सूर्यास्त – 18:52  जन्माष्टमी के दिन कैसा रहेगा और क्या करेंगें जानिए राशिफल।

देश के कुछ भाग में 23 को 24 को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व मनाया जा रहा है।  इस जन्माष्टमी पर मनोकामना पूर्ण करने के कुछ जरुरी टिप्स बता रहे हैं। इस जन्माष्टमी पर यदि  राशि के अनुसार पूजन करते हैं तो निश्चित ही आपको हर कार्य में सफलता प्राप्त होगी।