ravana

इस तरह भगवान राम जीत गए। हालांकि, इस संदर्भ में बेहद लोगों को मालूम है कि रामायण में कुछ ऐसा भी हुआ। आज दशहरा है। ऐसे में आज देश के कई हिस्सों में रावण को जलाया जाएगा, लेकिन आपको ये मालूम है कि रावण को कई जगहों पर भगवान के रूप में पूजा भी जाता है।

वैसे रावण को लेकर कई ऐसे रोचक तथ्य हैं, जिनके बारे में लोगों को मालूम नहीं है। वह बेहद पढ़ा लिखा राक्षस था। यही नहीं, वह ब्रह्माजी का पड़पौत्र भी था।

ममी बनाने की परंपरा प्राचीनकाल में काफी प्रचलन में थी। मिस्र यह किया जाता था। वहां राजाओं के शवों के साथ ये परंपरा की जाती थी। शैव संप्रदाय में उस समय समाधि देने का रिवाज था। माना जाता है कि रावण भी शैवपंथी था, जिसकी वजह से उसे ताबूत में रखा गया।

रावण की मृत्यु के बाद उसके वंशज यहां बस गए थे। रावण की मृत्यु के बाद मंदोदरी ने रावण के भाई विभीषण से विवाह किया था। मंदोदरी बहुत सुंदर थी। वहीँ, दूसरी पौराणिक कथाओं के अनुसार समय-समय पर समझाने वाली रावण की पत्नी मंदोदरी उत्तर प्रदेश के मेरठ की रहने वाली थीं।

हरदोई: भारतवर्ष में विजयदशमी का पर्व बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है कहा जाता है बुराई पर अच्छाई की जीत के लिए रावण वध भी किया जाता है भगवान राम जी और रावण के बीच में भयंकर युद्ध हुआ था जिसमें रावण की पराजय हुई। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से सटे हुये एक …

लखनऊ : लोकसभा चुनावों की आहट के बीच सूबे के दलित वोटों को अपने पाले में करने के लिए योगी आदित्‍यनाथ सरकार ने एक बड़ा निर्णय लिया है। सूबे की सरकार ने गुरुवार को राष्‍ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत जेल में बंद भीम आर्मी के संस्‍थापक चंद्रशेखर उर्फ रावण को समय से पहले से छोड़ने …

सहारनपुर हिंसा का आरोपी और भीम आर्मी का संस्थापक चंद्रशेखर उर्फ रावण को देर रात सहारनपुर जेल से मेरठ मेडिकल में रेफर किया गया है। उसकी सुरक्षा में कई पुलिसकर्मियों को लगाया गया है।

रामपुर: समाजवादी पार्टी (सपा) के दिग्गज नेता और सपा सरकार में कैबिनेट मंत्री आजम खां ने रामपुर में सोमवार को अपने रावण वाले बयान पर सफाई दी। उन्होंने कहा कि  सारे चैनलों पर चैं- चैं मची हुई है, कि पीएम को मैंने रावण क्यों कह दिया।  पूरे हिन्दुस्तान में मेरे खिलाफ चीख पुकार मची हुई …

लखनऊः पौराणिक और ऐतिहासिक संदर्भ में राम-रावण युद्ध, रावण वध एक खास महत्वपूर्ण कथा से जुड़ा है। यह युद्ध और यह वध मानवीय अर्थ में कई संदर्भ समेटे हुए है। यह सिर्फ असत्य पर सत्य की विजय नहीं, अधर्म पर धर्म की विजय नहीं हैं। इसका मानवीय पहलू यह भी है कि कोई भी समस्या …