religious views

ज्योतिष शास्त्र में रत्न और पत्थरों का बहुत महत्व होता है। वैसे रत्नों में गिने-चुने नवरत्न ही ऐसे हैं, जिन्हें सब लोग जानते हैं, इन रत्नों के अलावा बहुत से ऐसे रत्न हैं जिनकी बहुत कम लोगों को जानकारी होती है। ऐसा ही एक रत्न है हकीक,

हिन्दू धर्म में पीले रंग को शुभ माना गया है। पीला रंग शुद्ध और सात्विक प्रवृत्ति का प्रतीक माना जाता है। यह सादगी और निर्मलता को भी दर्शाता है। बसंत पंचमी के पर्व पर वैसे भी चटख पीला रंग उत्साह और विवेक का प्रतीक माना जाता है। इसके साथ सफेद रंग से जुड़ी शांति भी शामिल हो जाती है।

माघ मास में आने वाली अमावस्या को मौनी अमावस्या कहते है। इस बार शुक्रवार के दिन होने से इस दिन का महत्व और भी बढ़ गया है। इस बार  24 जनवरी को मौनी अमावस्या पर शनि स्वयं की राशि मकर में प्रवेश कर रहा है।

मकर संक्रांति हिन्दुओं का एक मुख्य पर्व है। इस साल मकर संक्रांति 15 जनवरी को मनाया जाएगा। इस पर्व की सही तारीख को लेकर लोगों के बीच असमंजसहै लेकिन धर्मानुसार यदि किसी साल मकर संक्रांति का पर्व शाम को पड़ता है तो इसे अगले दिन मनाया जाता है।

साल का पहला चंद्रग्रहण 10 जनवरी को लगने जा रहा है। चंद्र ग्रहण का समय रात 10 बजट 37 मिनट से शुरू होगा और रात 2 बजकर 42 मिनट पर खत्‍म होगा। इस बार ग्रहण की अवधि 4 घंटे से अधिक की रहेगी। इस बार चंद्र ग्रहण की खास बात यह है कि इसे भारत में भी देखा जा सकेगा।

हमारी परंपरा में धर्म का स्थान अहम है और धर्म में देवताओं का। इनके साथ इनके प्रतीक चिह्नों का भी महत्व है। सृष्टि के रचियेता ब्रह्मा,विष्णु और शिव के बिना सबकुछ अधूरा है। हम अक्सर भगवान के साथ उनके प्रतीक चिह्न को भी देखते है। 

दिसंबर का महीना  करीब-करीब गुजर चुका है। आज से ठीक कुछ दिन बाद नया साल आ जाएगा। उससे पहले आज क्रिसमस पर्व विश्वभर में धूमधाम से मनाया जा रहा है। लोगों ने इस पर्व को मनाने की तैयारी पहले कर ली थी।

हिंदू मास व पंचांग के अनुसार पौष का महीना दसवां मास होता है। पौष मास की पूर्णिमा को चन्द्रमा पुष्य नक्षत्र में रहता है और इसी कारण इस महीने को पौष का मास कहते हैं। इस महीने में भगवान सूर्यनारायण की विशेष पूजा अर्चना से उत्तम स्वास्थ्य और मान सम्मान की प्राप्ति होती है।दरअसल जिस महीने की पूर्णिमा को चंद्रमा जिस नक्षत्र में होता है उस महीने का नाम उसी नक्षत्र के आधार पर रखा जाता है।

प्रकृति पर्व छठ केवल सामान्य आस्था का पर्व ही नहीं है बल्कि व्यापक स्तर पर लोक आस्था का महापर्व है। छठ पर्व केवल बिहार और यूपी तक ही सीमित नहीं रहा है। छठ यानि लोक आस्था का यह पर्व अब देश-विदेशों में भी मनाया जाने लगा है। 31OCT: इन राशियों को मिलेगा उपहार, जानिए आज …

ज्योतिष में सभी नौ ग्रहों में सबसे ज्यादा चलने वाला ग्रह है चंद्रमा, जो मन का कारक है। इस ग्रह का किसी  से कोई शत्रुता नहीं होती है। मतलब यह चंद्रमा का मित्र ग्रह  वैसे तो सूर्य  व बुध है लेकिन इसके अलावा भी इस ग्रह की अन्य ग्रहों से कोई शत्रुता नहीं होती है। चंद्रमा मंगल, गुरु, शुक्र व शनि से सम संबंध रखते है। चन्द्र कर्क राशि का स्वामी है।