research

ला ट्रोब युनीवर्सीटी और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, कानपुर (आईआईटी कानपुर) ने भारत में रिसर्च एकेडमी का शुभारंभ कर आपसी साझेदारी का नया महत्वपूर्ण दौर...

ऐसे लोग जिनमें हार्टअटैक, ब्रेन स्ट्रोक, ट्रांजियंट इश्चमिक अटैक या कोई अन्य हार्ट डिजीज हो या होने की संभावना हो, उसे रोकने या उपचार के लिए नई दवा आई है जो बेहद कारगर है। सीडीआरआई  के निदेशक डॉ. तपस कुमार कुंडू ने बताया कि संस्थान के वैज्ञानिक 10 साल से अनुसंधान में जुटे थे। अब जाकर सफलता मिली है।

बॉलीवुड एक्टर रणवीर सिंह ने अपनी बियर्ड से एक अलग ही ट्रेंड सेट कर दिया था। उनके बियर्ड लुक के बाद हर कोई बियर्ड लुक में नजर आने लगा था।

आजकल बच्चों का ध्यान आउटडोर गेम पर तो कम लगता है। मोबाइल पर ज्यादा। तो क्या बच्चों को मोबाइल से भी ध्यान भटकाने के लिए एनिमेशन के बारे में बताकर उसकी रुचि पैदा की जाए। कहने का मतलब कि एनिमेटेड किताबों के माध्यम से बच्चे ज्यादा आसानी से चीजों को समझ सकते हैं

आज के समय में लोग फैशन के चक्कर में हेल्थ से समझौता कर लेते हैं। लोग फैशन में कपड़े व जूते चप्पलों को लेकर बहुत सेंसटिव हो जाते है अलग दिखने की चाहत में कुछ भी पहन लेते है। आज लोग ऐसे जूतों को वार्डरोब का हिस्सा बनाते है।

हाल ही में एक रिसर्च में सामने आया है कि, यदि हाई कोलेस्ट्रॉल लेवल का इलाज समय पर करवा लिया जाए तो हार्ट अटैक और स्ट्रोक से जैसी समस्याओं से बचा जा सकता है।

एक रिसर्च में साफ जाहिर हुआ है कि महिलाए स्टेटस दिखाने के चक्कर में ज्यादा सेक्सी और रिवीलिंग कपड़े पहनना पसंद करती है। ऑस्ट्रेलिया में हुए एक रिसर्च में पहनावे और मनोविज्ञान के बीच का संबंध दिखाया गया है। इस रिसर्च में महिलाओं की मानसिक स्थिति पर है। इस रिसर्च में पाया गया कि वे महिलाएं ज्यादा सेक्सी और रिवीलिंग कपड़े पहनना पसंद करती हैं, जो स्टेटस एंग्जाइटी का शिकार होती हैं।

ब्रह्मांड के सारे ग्रह, तारे, सूरज, आकाशगंगाएं आदि आपस में जुड़े है। ये आपस में एक निश्चित दूरी पर रहती हैं। इसके लिए चार ताकतों के बारे में पहले से पता थ।. ये ताकतें हैं- गुरुत्वाकर्षण बल, विद्युतचुंबकीय बल, प्रबल नाभिकीय बल और कमजोर नाभिकीय बल

चाहे लड़की हो या लड़का जीवन के एक पड़ाव पर दोनों को साथ की जरूरत पड़ती है। कहने का मतलब कि जीवन में एक साथी जो जीवनभर आपका रहे उसकी आवश्यकता हमेशा रहती ही है। लेकिन अब सोच बदली है। आजकल लड़के तो दूर लड़कियां ही शादी नहीं करना चाहती वो सिंगल रहना ही पसंद करती हैं।

अधिकतर पैरेंट्स की दिल से इच्छा होती है कि उनका बच्चा हर क्षेत्र में टॉपर हो। इसके कुछ पैरेंट्स तो बच्चे के जन्म के साथ ही यथा शक्ति तैयारी शुरु कर देते है। बच्चो के बड़े होते ही तरह तरह की किताबे लाने लगते है ताकि उनका बच्चा कुछ सीखे व जानें। स्कूल जाने से पहले घर में ही पढ़ाई शुरु कर देते हैं।