rituals

ज्योतिष शास्त्र में शुभ मुहूर्त तय कर उस हिसाब से ही कोई काम करने की अनुमति होती है। कोई भी कार्य यदि शुभ मुहूर्त में किया जाता है तो वह उत्तम फल प्रदान करने वाला होता है। शुभ मुहूर्त का मतलब ऐसे समय से है जो उस कार्य की पूर्णता के लिए उपयुक्त हो।

हमारे कई प्रांत और कई पंरपराएं है और यहां की होने वाली शादियों की बात भी अद्भुत होती है। अगर पूरे देश की बात करें तो शादियों का रिवाज बिल्कुल अलग है। कहीं कुछ रिवाज है तो कहीं कुछ।

इस मेले की शुरूआत साल 1310 ई. से हुई। इस मेले में लड़की के मां-बाप अपनी हैसियत के हिसाब से अपनी बेटी के योग्य वर ढूंढ़ते है। शादी तय करने से पहले लड़का और लड़की पक्ष पहले एक-दूसरे की पूरी जानकारी हासिल करते हैं, फिर सहमति से दोनों पक्ष रजिस्ट्रेशन कराकर शादी कराते है

हिंदू संस्कृति में रिति रिवाजों और धार्मिक मान्यताओं के अनुसार हर काम किए जाते हैं। जिससे वह काम सफल हो सके। हिन्दू धर्म में ऐसी कई रस्में होती है, जिन्हें सही तरह से निभाकर हर कोई अपने परिवार की खुशियों को आगे ले जाते हैं। भगवान के प्रति अटूट आस्था भक्तों में देखने को मिलती है।

जयपुर:गुरुवार, फाल्गुन शुक्लपक्ष अष्टमी 14 मार्च से फाल्गुन शुक्ल पूर्णिमा 21 मार्च तक होलाष्टक रहेगा। इस अवधि में भोग से दूर रह कर तप करना ही अच्छा माना जाता है। इसे भक्त प्रह्लाद का प्रतीक माना जाता है। सत्ययुग में हिरण्यकशिपु ने घोर तपस्या करके ब्रह्मा जी से वरदान पा लिया। वह पहले विष्णु का …

जयपुर:हिंदू संस्कृति में रिति रिवाजों और धार्मिक मान्यताओं के अनुसार हर काम किए जाते हैं। जिससे वह काम सफल हो सके। हिन्दू धर्म में ऐसी कई रस्में होती है, जिन्हें सही तरह से निभाकर हर कोई अपने परिवार की खुशियों को आगे ले जाते हैं। भगवान के प्रति अटूट आस्था भक्तों में देखने को मिलती …

जयपुर:रीति-रिवाज किसी भी धर्म और समाज के परिचायक है जिनकी वजह से दुनिया के सामने इनकी सफलता और विफलता का पाता चलता हैं। ये रीति-रिवाज हमें घर के बुजुर्गो से ही पता चलते हैं, जो कि प्राचीन समय से ही चले आ रहे हैं। कुछ ऐसे ही प्राचीन रीति-रिवाज के बारे में बताने जा रहे …

इंदौर: आध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज (उदय राव देशमुख) का बुधवार को मुक्तिधाम में अंतिम संस्कार कर दिया गया। भय्यूजी की बेटी कुहू ने उन्हें मुखाग्नि दी। भय्यूजी महाराज ने पारिवारिक तनाव के चलते मंगलवार को खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। भय्यूजी महाराज का पार्थिव शरीर बुधवार सुबह सिल्वर स्प्रिंग इलाके में स्थित …

कानपुर: मुहर्रम जुलूस व रामबारात की शोभा यात्रा के दौरान बीते दिनों दो समुदायों के बीच जमकर बवाल हुआ। दर्जनों वाहनों में आग लगा दी गई और पथराव में कई लोग घायल भी हुए। इतना कुछ होने के बाद भी इसी शहर से एक ऐसी तश्वीर निकल कर आई, जिसने लोगों के गुस्से को शांत …

अजमेर: राजस्थान के अजमेर जिले में तीर्थराज पुष्कर स्थित ब्रह्मा मंदिर प्रोजेक्ट के तहत प्रथम चरण में 24 करोड़ की लागत से गुजरात के अक्षरधाम की तर्ज पर विकास कार्य शुरू कर दिए गए हैं। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के 22 सितम्बर को प्रस्तावित अजमेर दौरे के तहत मंदिर क्षेत्र की 10 बीघा जमीन पर बनने वाले …