rohit sharma

भारतीय सलामी बल्लेहबाज रोहित शर्मा ने पाकिस्ता न के खिलाफ आईसीसी क्रिकेट वर्ल्डब कप में अर्धशतक लगाते ही रिकॉर्ड बना दिया। इस पचासे के साथ ही वे दिग्गफजों की कतार में खड़े हो गए।

भारतीय सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा ने युवराज सिंह के उतार-चढ़ाव भरे करियर की सराहना करते हुए कहा कि यह कलात्मक बल्लेबाज 17 साल तक शीर्ष स्तरीय क्रिकेट के बाद बेहतर विदाई का हकदार था।

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ लक्ष्य का पीछा करते हुए रोहित शर्मा ने नाबाद 122 रन की पारी खेली थी और कप्तान विराट कोहली ने इसे उनकी सर्वश्रेष्ठ वनडे पारी करार दिया था। भारतीय उप कप्तान रोहित ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि मैं अब 200 के करीब मैच खेल चुका हूं। अगर मैं अब नहीं करूंगा तो कब करूंगा। ’’

कैप्टन कोहली ने मैच के बाद कहा, ‘हमें पहले मैच के लिए लंबा इंतजार करना पड़ा और इसके बाद इस तरह का मैच खेला। मैच पूरे समय चुनौतीपूर्ण बना रहा। हमारे लिए जीत से शुरुआत करना महत्वपूर्ण था।

लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल की उम्दा गेंदबाजी और रोहित शर्मा की कुछ विषम पलों से गुजरने के बाद खेली गयी नाबाद शतकीय पारी से भारत ने बुधवार को यहां दक्षिण अफ्रीका को छह विकेट से हराकर अपने विश्व कप अभियान का शानदार आगाज किया।

भारतीय टीम के स्टार बल्लेबाज और लोगों के दिलों की धड़कन हिटमैन रोहित शर्मा फेल हो गए हैं। दरअसल वर्ल्ड कप से पहले टीम इंडिया अब इंग्लैंड पहुँच गयी है

आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में खेले गये पिछले विश्व कप के बाद के आंकड़ों पर भी गौर करें तब भी रोहित और धवन विश्व भर की सलामी जोड़ियों के सामने अव्वल ही साबित होते हैं। भारतीय जोड़ी ने इन चार वर्षों में 60 मैचों में 2609 रन मिलकर बनाये जिसमें आठ शतकीय और सात अर्धशतकीय साझेदारियां शामिल हैं।

वीरेंद्र सहवाग के पास 2011 में बांग्लादेश के खिलाफ ढाका में गांगुली का रिकार्ड तोड़ने का सुनहरा मौका था लेकिन वह कपिल देव की 1983 में खेली गयी ऐतिहासिक नाबाद 175 रन की पारी की बराबरी करके पवेलियन लौट गये। सचिन तेंदुलकर ने 2003 में नामीबिया के खिलाफ पीटरमैरिटजबर्ग में 152 रन बनाये थे। वनडे में पहला दोहरा शतक जड़ने वाले तेंदुलकर का यह विश्व कप में सर्वोच्च स्कोर भी है।

मेरठ में जन्मे शशांक प्रकाश शर्मा जो अब बॉलीवुड में कदम रख रहें हैं। शशांक ने चाँदपुर बिजनौर रह कर अपनी पढ़ाई ब्लू बर्ड्स इंटरनेशनल स्कूल धनौरा से कर रहे है।

रोहित ने कहा ,‘‘ एक मैच बाकी रहते प्लेआफ में पहुंचना अच्छा रहा। हमने 2017 में खिताब जीता था और दो मैच बाकी रहते प्लेआफ में चले गए थे। एक टीम के रूप में हमने हालात का बखूबी सामना किया है।’’