rss

महाराष्ट्र में सरकार के गठन को लेकर मोहन भागवत ने पहली बार अपनी चुप्पी तोड़ी है। उन्होंने बीजेपी और शिवसेना के बीच तनाव को लेकर कहा है कि आपस में लड़ने से दोनों को नुकसान होगा, लेकिन फिर भी लड़ना नहीं छोड़ते। बता दें कि महाराष्ट्र में सरकार के गठन से पहले बीजेपी और शिवसेना के बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर मतभेद पैदा हो गए, जिसके बाद यहां राष्ट्रपति शासन भी लगा दिया गया है।

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (बीएचयू) के प्रोफेसर पर कार्रवाई किए जाने को लेकर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) पर निशाना साधा है।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे को आज ही के दिन सजा-ए-मौत दी गई थी। नाथूराम गोडसे ने 30 जनवरी, 1948 को राष्ट्रपिता गांधी को गोली मार दी। ये वही नाथूराम था जो कभी गांधी से प्रभावित था। सत्याग्रही था। जेल गया था।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे को आज ही के दिन सजा-ए-मौत दी गई थी। नाथूराम गोडसे ने 30 जनवरी, 1948 को राष्ट्रपिता गांधी को गोली मार दी। ये वही नाथूराम था जो कभी गांधी से प्रभावित था।

अयोध्या रामजन्म भूमि- बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद राम जन्मभूमि आंदोलन से जुड़े प्रमुख हिंदू नेताओं ने विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के दिवंगत नेता अशोक सिंघल और बीजेपी के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी के योगदान की सराहना की।

अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले के बाद क्या संघ काशी और मथुरा में भी ऐसे ही आंदोलन करेगा, इस पर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि संघ आंदोलन करने वाला संगठन नहीं है। वह इंसान सृष्टि करने वाला संगठन है।

देश के सबसे बड़े अयोध्या विवाद को लेकर आ रहे सुप्रीम कोर्ट के आ रहे फैसले को लेकर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ अभी से बेहद गंभीर हो गया है।

अमित शाह से मुलाकात के बाद मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस आज बीजेपी के कोर नेताओं से मुलाकात करेंगे। इसी बैठक में महाराष्ट्र में बनने वाली सरकार पर बात होगी। इसके साथ ही कब शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे से मिला जाए ये भी तय किए जाने की उम्मीद है।

रामजन्मभूमि अयोध्या पर फैसला आने में कुछ ही दिन बाकी हैं। अयोध्या पर आने वाले फैसले को लेकर आरएसएस और भाजपा ने अपने मुस्लिम नेता अपने समुदाय के मौलाना और शिक्षाविदों से बात करेंगे।

किसानों को लेकर भी अखिलेश ने योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा और कहा कि सरकार किसानों को भी निराश कर रही है। अखिलेश ने आगे कहा कि पिछले 3 सालों में किसानों को उनकी लागत मूल्य भी नहीं मिल पायी है।