Sabarimala

सबरीमाला विवाद के बीच दर्शन करने पहुंची 10 महिलाओं को पुलिस ने शनिवार को वापस भेज दिया। 10 से 50 साल की इन महिलाओं को पुलिस ने पंबा में ही रोक लिया था। इसी बीच खबर है कि कई विवादों के बीच सबरीमाला मंदिर का पट खुल गया है।

राम जन्मभूमि फैसला सुनाने के बाद अब सुप्रीम कोर्ट एक बार फिर बड़ा फैसला सुनाएगा। गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर अवमानना के मामले में फैसला देना है।

सुप्रीम कोर्ट ने केरल सरकार को सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने वाली महिलाओं कनकदुर्गा और बिंदु को 24 घंटे सुरक्षा मुहैया कराने का आदेश दिया है। दोनों महिलाओं ने 1 जनवरी की रात मंदिर में जाने की बात कही थी। इसके बाद दोनों ने अपनी जान को खतरा बताया था।

आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर ने केरल की जनता से शांति बनाने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि जब सबरीमाला मामला कोर्ट में है, तो ऐसी कोई कार्रवाई नहीं की जानी चाहिए जो हमारे समाज में गुस्से और मामले को और तूल देने का काम करे।

 केन्द्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने सबरीमाला मामले पर केरल सरकार को घेरते हुए इसे हिंदुओं का दिनदहाड़े दुष्कर्म बताया है।वहीं दूसरी ओर बीजेपी नेता वी मुरलीधरन ने कहा कि महिलाओं का मंदिर में प्रवेश पूरी तरह से सुनियोजित था जिसके तहत दो माओवादी महिलाओं को पुलिस की देख रेख में मंदिर के अंदर ले जाया गया।

तिरुअनंतपुरम : सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी सबरीमाला मंदिर में इस बार महिलाएं प्रवेश कर पाएंगी या नहीं? मंदिर के द्वार खुलने में कुछ घंटे ही शेष हैं और इस सवाल पर राज्य में तनाव बना हुआ है। मंदिर में हर उम्र की महिलाओं के प्रवेश के लिए एक सर्वदलीय बैठक बुलाई गई जो …

तिरुवनंतपुरम : केरल के सीएम पिनरई विजयन ने सबरीमाला मंदिर को संघर्ष क्षेत्र में तब्दील करने के लिए ‘संघ परिवार’ और उसके सहयोगियों को जिम्मेदार ठहराया और नवंबर में शुरू होने वाले श्रद्धालुओं के अगले लंबे सत्र में सर्वोच्च न्यायालय के आदेश को लागू करवाने की प्रतिबद्धता जताई। उन्होंने मंदिर के तांत्री और पंडालम शाही परिवार …

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट अब 13 नवंबर को सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश संबंधी संवैधानिक पीठ के फैसले के खिलाफ दोबारा सुनवाई का आग्रह करने वाली कई याचिकाओं पर निर्णय लेगा। कोर्ट की संवैधानिक पीठ ने अपने ऐतिहासिक फैसले में केरल के सबरीमाला मंदिर में 10 से 50 वर्ष की महिलाओं को प्रवेश की अनुमति …

सबरीमाला : आंध्र प्रदेश की रहने वाली चार महिलाएं रविवार को भगवान अयप्पा के दर्शन के लिए सबरीमाला मंदिर की ओर जा रही थीं कि तभी गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने उनका रास्ता रोका और उन्हें वापस लौटा दिया। सुबह 10 बजे एक पुरुष श्रद्धालु के साथ दो महिलाओं को प्रदर्शनकारियों के गुस्से का सामना करना पड़ा। श्रद्धालु …