sawan

सेहत के नजरिये से भी सावन महीने में मेहंदी का उपयोग बहुत फायदेमंद होता है। सावन बारिश का महीना होता है, इस महीने में कई तरह की बीमारियां फैलने का भी डर रहता है। आयुर्वेद में हरा रंग कई बीमारियों की रोक-थाम में कारगर माना गया है। मेहंदी की खुशबू और ठंडक स्ट्रेस को भी कम करती है

इस सावन मास 6 जुलाई सोमवार से शुरू होकर सोमवार को ही खत्म हो रहा है। 3 अगस्त तक चलने वाले सावन मास में पांच सोमवार का विशिष्ट योग बना है। सावन मास में दो सोमवार को विशेष रूप से अमावस्या और पूर्णिमा पड़ रहे है।

सावन मास हरियाली और नवचेतन का माह है जो भगवान शिव को अतिप्रिय है। इस माह समस्त वातावरण भगवान शिव की भक्ति में भक्तिमय रहता है। हर तरफ सकारात्मक शक्ति का प्रवाह होता है। वास्तु में कुछ उपाय भी बताए गए हैं।

शिवपर्व शुरू हो चुका है। शिव दिवस से ही शुरू और शिव दिवस को ही समाप्त हो रहा यह सावन बहुत ही महत्वपूर्ण है। इस बार भगवान शिव का प्रिय मास सावन में  विशेष संयोग बन रहा है। खास यह कि सोमवार से इस माह की शुरुआत हो रही और समापन भी सोमवार को ही होगा।

सावन का पवित्र मास चल रहा है। इसमें अगर देवो के देव महादेव जो कि अजन्मे है, अनंत है।  उनके बारे में न जाने, न सुने तो सब बेकार है। इस एक माह तक शिव कथा और उनकी महिमा का गुणगान  न करें तो जीवन का कोई मूल्य नहीं है।  पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, महादेव शिवशंकर स्वयं प्रगट हुए है।

शिवरात्रि के मौके पर NewsTrack.Com आपको भारत के 12 ज्योतिर्लिंग के दर्शन कराने के साथ ही इनसे जुडी ख़ास बातें भी बता रहा है।

देवों के देव महादेव देवताओं में सबसे श्रेष्ठ हैं। जब भगवान शिव की पूजा की जाती है तो विधि-विधान का बहुत ख्याल रखना पड़ता है। समस्त जगत के प्राणी शिव की पूजा सावधानी के साथ करते हैं, लेकिन क्या अविवाहित लड़कियों को शिव की पूजा करनी चाहिए।

सावन का महीना पवन करे शोर',कभी ये गाना सावन आते ही लोगों की जुबान पर खुद-ब-खुद आ जाता था। आज वक्त ने ऐसी करवट ली है कि सावन तो आता है पर अपने रंग नहीं बिखेर पाता। जिस सावन के आते ही नववधु के पैर ससुराल से मायके की दहलीज तक पहुंचते थे।