sebi

अधिकारी मार्केट रेगुलेट ने अपने बयान में कहा है कि आवेदन की स्थिति जांचने और किसी गलती में सुधार की आखिरी तारीख 31 जुलाई 2020 है। PACL ने निवेशकों से कृषि और रियल एस्टेट कारोबार के नाम पर पैसे जुटाए थे।

सेबी की ओर से जारी नोटिफिकेशन में कहा गया है कि ब्रोकरों के लिए कारोबार शुल्क में मौजूद शुल्क ढांचे में 50 प्रतिशत कटौती की गई है।

इस संकट को देखते हुए फ्रेंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड  गुरुवार को अपनी डेट स्कीम्स में से छह को बंद करने का फैसला किया है। इन सभी का ऐसट बेस 25,856 करोड़ रुपये है। 

भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) ने 20 मार्च को कोरोनोवायरस संकट के कारण बाजार में अस्थिरता का मुकाबला करने के लिए शेयरों की कम बिक्री को कठिन बनाने के उपायों की घोषणा की है।

नए प्रकटीकरण मानदंडों के तहत, सूचीबद्ध कंपनियों को 30 दिनों से अधिक के किसी भी ऋण डिफ़ॉल्ट के पूर्ण तथ्यों की 24 घंटे के भीतर रिपोर्ट करनी होगी। 24-घंटे की समय सीमा 30 दिनों से अधिक के मूल और ब्याज राशि के पुनर्भुगतान की किसी भी विफलता पर लागू होगी।

कोई भी कंपनी के ख़ुफ़िया कारोबार के बारे में सूचना देने वालों को इनाम के रूप में सेबी से 1 करोड़ रुपए दे सकता हैं. इसके अलावा गोपनीयता बनाए रखने के साथ पूरी जानकारी साझा करने के लिए हॉटलाइन उपलब्ध कराई जाएगी और अगर किसी से कुछ गलती हो जाती है तो उसके लिए माफी या उसका निपटारा किया जाएगा.

भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) ने चार इकाइयों पर कुल 31.20 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। इन पर यह जुर्माना बीएसई में कम खरीद-फरोख्त वाले शेयरों के विकल्प अनुबंध में धोखाधड़ी पूर्ण कारोबार करने के लिए लगाया गया है।

24 अप्रैल बाजार नियामक सेबी ने वित्तीय संकट से जूझ रहे होटल लीला वेंचर को अपने चार होटल और अन्य संपत्तियों को कनाडा के निवेश कोष ब्रुकफील्ड एसेट मैनेजमेंट को बेचने से रोक दिया है। होटल लीला ने बुधवार को यह जानकारी दी।

नई दिल्ली। व्हाट्सएप पर कंपनियों की संवेदनशील जानकारी को गैरकानूनी तरीके से लीक करने के मामले में स्टॉक एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) ने बड़ी कार्रवाई की है। सेबी ने बाज़ार के विश्लेषकों और विभिन्न कारोबारियों के परिसरों में तलाशी अभियान चलाया। यह पहला ऐसा मौका है जब सेबी ने इतना बड़ा अभियान चलाया हो। …

गुजरात विधानसभा चुनाव से ठीक पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को बड़ा झटका लगा है। शेयर बाजार नियामक सेबी ने गुजरात के सीएम विजय रूपाणी के हिंदू अविभाजित परिवार (एचयूएफ) अकाउंट सहित 22 संस्थाओं और व्यक्तियों को सारंग केमिकल्स कंपनी के साथ 'व्यापार में हेरफेर' का दोषी ठहराया है।