Shaheen Bagh

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और एनआरसी को लेकर दिल्ली में हुई उग्र हिंसा भले ही अब थम गयी हो लेकिन शाहीन बाग की महिलाओं का प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहा।

दिल्‍ली हाई कोर्ट में आज शुक्रवार को हिंसा से जुड़ी कई याचिकाओं की सुनवाई करते हुए अदालत ने केंद्र सरकार और दिल्‍ली पुलिस को नोटिस जारी किया।याचिकाकर्ता ने शाहीन बाग समेत 8 जगहों पर प्रदर्शन किए जाने, इनकी फंडिंग की जांच की मांग करते हुए याचिका दायर की थी।

दिल्ली विधानसभा चुनाव में शाहीन बाग में जारी विरोध प्रदर्शन बड़ा मसला बनकर उभरा था जिसमें चुनाव प्रचार के दौरान केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर के द्वारा दिए गए एक बयान पर विपक्ष आगबबूला हो गया।

बेगूसराय: बीजेपी राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा ने दिल्ली में हिंस को लेकर कांग्रेस पर वार किया है। राकेश सिन्हा ने कांग्रेस पर वामपंथी और सांप्रदायिक ताकतों को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है। राकेश सिन्हा ने दिल्ली में जारी हिंसा का जिक्र करते हुए कहा कि राहुल गांधी, उनकी पार्टी और देश के वामपंथी सांप्रदायिक …

दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों ने करीब दो महीने बाद नोएडा-फरीदाबाद को जोड़ने वाली सड़क को खोल दिया।

सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्त वार्ताकार साधना रामचंद्रन लगातार चौथे दिन शनिवार सुबह प्रदर्शनकारियों के बीच पहुंची और उन्हें रास्ता खोलने के लिए समझाया। हालांकि चौथे दिन की बात भी बेनतीजा ही रही और साधना रामचंद्रन को वापस लौटना पड़ा।

दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में पिछले दो महीने से ज्यादा वक्त से लोग नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजंस (एनआरसी) के खिलाफ करीब दो महीने से प्रदर्शन चल रहा है। शाहीन बाग इलाके में सीएए के खिलाफ 15 दिसंबर से हो रहे विरोध प्रदर्शन में धाकड़ दादियां गरज रही हैं।