shashi tharoor

दिल्ली विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद शुरू हुई रार अभी खत्मी भी नहीं हुई थी कि कांग्रेस के दो बड़े दिग्गज एक बार फिर आमने-सामने आ गए। मसला ब्रिटेन की सांसद डेब्बी अब्राहम को भारत से वापस भेजे जाने का था।

आम बजट 2020 पेश होने के बाद सत्ता पक्ष जहां इसे ऐतिहासिक बताकर अपनी पीठ थपथपा रहा है तो वहीं विपक्ष बजट को निराशाजनक बताकर सरकार पर निशाना साध रहा है।

साहित्य उत्सव में शशि थरूर ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के मामले में राज्यों का जो विरोध है, उस पर केंद्र सरकार को ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि सीएए के बाद जब केंद्र एनपीआर या एनआरसी करना चाहेगी, तब राज्यों का सहयोग जरूरी होगा और उस समय राज्य मना कर देंगे तो केंद्र क्या करेगा। उन्होंने कहा कि धर्म के आधार पर नागरिकता देने का विचार पाकिस्तान का है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता की पत्नी सुनंदा पुष्कर की मर्डर मिस्ट्री अब तक अनसुलझी है। छह साल पहले संदिग्ध हालत में मौत के बाद आज तक उनकी मौत रहस्य बनी हुई है

आतंकवादियों के साथ मिलकर देश से गद्दारी करने के आरोपी जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीएसपी देविंदर सिंह के मुद्दे पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर...

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) देश में लागू हो चुका है। इसे लेकर कई जगहों पर विरोध भी हो रहा है। इस बीच रविवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर नागरिकता कानून पर अपने संबोधन के लिए जामिया मिल्लिया इस्लामिया में पहुंचे।

पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर खुद ही फंस गए हैं। तिरुवनंतपुरम से कांग्रेस पार्टी के सांसद शशि थरूर के खिलाफ त्रिवेंद्रम की एक अदालत ने अरेस्ट वारंट जारी किया है, अदालत ने यह वारंट शशि थरूर के अपनी एक किताब में हिंदू महिलाओं को कथित रूप से बदनाम

उन्होंने जोर इस बात की तरफ इशारा करते हुए कहा कि भारत के आंतरिक मामलों में दखल का पाकिस्तान को कोई अधिकार नहीं है, लेकिन एक विपक्षी दल के रूप में हमें यह कहने का पूरा हक है कि बड़े संवैधानिक बदलावों के वक्त भारत सरकार