sheila dikshit

दिल्ली में 2020 में विधानसभा चुनाव में होना है, लेकिन नेतृत्व विहीन दिल्ली कांग्रेस में कलह कम होने का नाम नहीं ले रहा है। कांग्रेस की अंदरुनी लड़ाई बेहद तीखी हो गई है। शीला दीक्षित के बेटे ने उनकी मौत के लिए पीसी चाको को जिम्मेदार बताया है।

देश की पूर्व विदेश मंत्री और भारतीय जनता पार्टी की नेता सुषमा स्वराज का मंगलवार देर रात निधन हो गया। दिल का दौरा पड़ने के बाद उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया था जहां उन्होंने अंतिम सांस ली। वह 67 वर्ष की थीं।

फोर्टिस-एस्कॉर्ट्स हार्ट इंस्टीट्यूट में तीन बजकर 55 मिनट पर उन्होंने अंतिम सांस ली। उनका पार्थिव शरीर अंतिम दर्शन के लिए कांग्रेस कार्यालाय में रखा गया था। उनका अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ हुआ।

दिल्ली विधानसभा चुनाव में मांगे राम गर्ग ने साल 2003 में पहली जीत हासिल की थी। लोकसभा चुनाव 2019 के लिए बीजेपी ने उन्हें दिल्ली में पार्टी को मजबूत करने की बड़ी जिम्मेदारी दी थी।

राहुल ने ट्वीट कर कहा, ‘‘मैं शीला दीक्षित जी के निधन के बारे में सुनकर बहुत दुखी हूं। वह कांग्रेस पार्टी की प्रिय बेटी थीं जिनके साथ मेरा नजदीकी रिश्ता रहा।' उन्होंने कहा, 'दुख की इस घड़ी में उनके परिवार और दिल्ली के निवासियों के प्रति मेरी संवेदनाएं है। उन्होंने दिल्ली के निवासियों की तीन बार मुख्यमंत्री रहते हुए निःस्वार्थ भाव से सेवा की।’’

शीला दीक्षित के अचानक निधन से देश भर में शोक की लहर है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने उनके निधन पर शोक जताया है। बॉलीवुड से भी अक्षय कुमार, भूमि पेडनेडकर, उर्मिला मातोंडकर, मनोज तिवारी समेत कई सेलेब्स ने ट्वीट कर दुख जताया।

नई दिल्ली: कांग्रेस की वरिष्ठ नेता शीला दीक्षित का शनिवार दोपहर को निधन हो गया। तबीयत बिगड़ने पर उन्हें राजधानी के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वे 81 साल की थी। शीला दीक्षित 15 साल तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं, फिलहाल दिल्ली कांग्रेस की अध्यक्ष थीं। आइये आज हम आपको विकास कार्यों से …

कॉमनवेल्थ घोटाले के अलावा शीला दीक्षित का नाम वॉटर टैंकर घोटाले में शामिल था। इस घोटाले में आरोप है कि दिल्ली जल बोर्ड ने साल 2012 में 385 स्टील के टैंकर किराए पर लिए थे। तब दिल्ली में शीला दीक्षित की सरकार थी।

कांग्रेस की वरिष्ठ नेता शीला दीक्षित का शनिवार दोपहर को निधन हो गया। तबीयत बिगड़ने पर उन्हें राजधानी के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वे 81 साल की थी।

नई दिल्ली: कांग्रेस की दिग्गज नेता शीला दीक्षित का 20 जुलाई को निधन हो गया। शीला दीक्षित काफी लम्बे समय से बीमार थीं। बता दें, उनके निधन पर तमाम दिग्गज नेताओं ने शोक संवेदनाएं व्यक्त की हैं। यह भी पढ़ें: शीला दीक्षित का निधन, गांधी परिवार ने खोया अपना सबसे विश्वस्त साथी Deeply saddened by the demise of …