shiva

शिवपर्व शुरू हो चुका है। शिव दिवस से ही शुरू और शिव दिवस को ही समाप्त हो रहा यह सावन बहुत ही महत्वपूर्ण है। इस बार भगवान शिव का प्रिय मास सावन में  विशेष संयोग बन रहा है। खास यह कि सोमवार से इस माह की शुरुआत हो रही और समापन भी सोमवार को ही होगा।

काल भैरव शिव का रुप हैं। काल भैरव अष्टमी या जयंती कार्तिक महीने के कृष्ण पक्ष की आठवीं को आती है। काल भैरव की उत्पत्ति शिव के खून से हुई है

जयपुर: चांदी की उत्पति भगवान शिव के नेत्रों से माना गया है। शास्त्रों अनुसार, जहां चांदी होता है वहां वैभव और संपन्नता आती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यह शुक्र और चंद्रमा ग्रह से जुड़ी हुई धातु है। यह शरीर में जल तत्व और कफ को नियंत्रित करता है, इसके अलावा खूबसूरती और सुख-समृद्धि बढ़ाने …

भाद्रपद शुक्ल तृतीया को हरितालिका तीज का त्यौहार शिव और पार्वती के पुर्नमिलन की खुशी में मनाया जाता है। पौराणिक कथा के अनुसार भोलेनाथ को पति के रूप में पाने के लिए मां पार्वती ने 107 जन्म लिए। उनके 108वें जन्म में भोले बाबा ने उनके कठोर तप से प्रसन्न हो अपनी अर्धांगिनी के रूप …

लखनऊ: देवो के देव महादेव  भगवान शंकर अपने भक्तों पर जितनी जल्दी प्रसन्न होते है, शायद कोई देवता इतना जल्दी प्रसन्न होते हों।  आज हम भगवान शिव के भक्तों को बताना चाहते है कि भगवान शिव का कोई भक्त यदि कोई गलत कार्य करता है  तो भगवान शिव बेहद गुस्सा होते है, इसलिए शिव के …

लखनऊ: आने वाली 24 फरवरी को महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाएगा। भगवान शंकर को प्रकृति से बेहद प्रेम रहा है। यही कारण है कि उनकी पूजा के दौरान बिल्व पत्र, शमी पत्र के अलावा धतूरा आदि अर्पित किए जाते हैं। शिव जी को पुष्पों से भी  बेहद लगाव है। वह कई तरह के पुष्पों को पसंद …

लखनऊ: मनुष्य का व्यवहार समय समय पर बदलता रहता है। कई बार खुद के व्यवहार पर आश्चर्य भी होता है आप किसी के साथ तो बहुत विनम्र तो किसी के साथ न चाहते हुए भी कठोर हो जाते हैं। दरअसल हम अपने आस-पास के लोगों के साथ किस तरह का व्यवहार करते हैं। सामान्य परिस्थितियों …

लखनऊ: पूजा चाहे कोई भी हो पर उसके संपन्न होने के बाद आराध्यदेव की आरती गाने की प्रथा है और किसी भी देवी-देवता की आरती क्यों ना हो उसके बाद ‘कर्पूरगौरं करुणावतारं’ मंत्र बोला जाता है। इस मंत्र को बोलना मात्र परंपरा को निभाना नहीं है, बल्कि इसके पीछे की वजह है, जिसके बारे में …

औरैया:  भगवान का जिक्र आते ही सर सजदा करने को झुक जाता है। अगर किसी भी मंदिर के पास से भी गुजरे तो श्रद्धा से ही सर झुकते है , इन मंदिरो में लोग उम्मीद और विश्वास लेकर जाते है और दुआ मांगते है। लेकिन यूपी के औरैया जनपद में एक ऐसा भी मंदिर है,  …

लखनऊ: हिंदू धर्म को सबसे पुरातन धर्म माना जाता है। कहा जाता है सृष्टि की उत्पत्ति के साथ ही इस धर्म की उत्पत्ति हुई है। इस धर्म के ग्रंथ,वेद-पुराण में बहुत सी ऐसी बातें लिखी गई है जिसके शाश्वत प्रमाण भी मिलते है। पूरी सृष्टि की रचना में जितने भी सजीव और निर्जीव वस्तुएं है …