sonia gandhi

कोविड फंड पर विवादित बयान दिए जाने के मामले में अब सोनिया गांधी के खिलाफ बिहार में एफआईआर दर्ज करवाई गयी है। मामला बीजेपी के पूर्व मीडिया प्रभारी पंकज सिंह कई धाराओं में दर्ज करवाया।

देश में कोरोना संकट के बीच शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अध्यक्षता में विपक्षी दलों की बैठक हुई। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये हुई इस बैठक में सोनिया गांधी ने केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अगुवाई में विपक्षी दलों की बैठक शुरू हो चुकी है। बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हो रही है। जिसमें कोरोना वायरस  सकंट के बीच प्रवासी मजदूरों की स्थिति और इस संकट से निपटने के लिए सरकार की ओर से उठाए गए कदमों पर चर्चा की जा रही है

विभिन्न विपक्षी दलों के नेता कोरोना संकट से उपजे हालत, लॉकडाउन के दौरान मजदूरों के पलायन और पैदल ही घर जाने जैसे मुद्दों पर शुक्रवार को...

कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार ने इस एफआईआर के खिलाफ मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को एक पत्र लिखा है। उन्होंने पत्र लिखते हुए आरोप लगाया है कि सोनिया गांधी पर गलत जानकारी के आधार पर मुकदमा दर्ज किया गया है। उन्होंने इसे तत्काल निरस्त करने की मांग की है।

देश कोरोना वायरस महामारी के भीषण संकट से जूझ रहा है। इन हालातों में भी राजनीति की सियासी जंग थमने का नाम नहीं ले रही। ऐसे में राजनीति की इस जंग में कर्नाटक के शिमोगा जिले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

जार्ज के आक्रोशित उद्गार थे : “मुझे लगता है कि इसे किसी गुलाम की औलाद ने लगाया है| कोई सभ्य आदमी ऐसा कतई नहीं करता| किस आधार पर लगा दी है? क्या देश क्या इन लोगों ने खरीदा है ? नेहरू खानदान ! लूटपाट वाला खानदान ?” इसपर रिपोर्टर ने पूछा– “सोनिया की फोटो को क्या हटवाना चाहिए?”

देश में लॉकडाउन का तीसरा चरण शुरू हो गया है। कुछ पाबंदियों के साथ सरकारी और निजी दोनों ही क्षेत्रों में काम करने की छूट दी गई है। लोगों ने काम पर जाना शुरू भी कर दिया है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने योगी सरकार से मांग की है कि वो रेल मंत्रालय से विभिन्न जिलों में स्पेशल रेलगाड़ी चलाए, जिससे प्रवासी मजदूरो को कोई परेशानी न हो

प्रवासी मजदूरों से इस वक्त में भी किराया वसूलने को लेकर रेलवे की काफी आलोचना की जा रही है। कांग्रेस समेत कई विपक्षी पार्टियों ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया है कि इस संकट के वक्त में भी मजदूरों से टिकट का पैसा वसूला जा रहा है।