sonu sood

लोगों को भी अब सोनू का इस तरह से मदद करना हैरान नहीं करता है। लोगों के लिए तो बस सोनू का मतलब ही मदद हो गया है। हर किसी को यही लगता है कि सोनू उनकी हर तकलीफ को दूर कर देंगे।

फिल्म डायरेक्टर कृष ने आरोप लगाया था कि कंगना उनके काम में हद से ज्यादा दखल देती हैं। अब ऐसा ही आरोप सोनू सूद ने कंगना रनौत पर लगाया है

सोनू सूद ने छात्रों को छात्रवृत्ति देने की मुहीम निकाली हैं। जो उच्च शिक्षा हासिल करना चाहते हैं। एक्टर ने कहा कि वित्तीय चुनौतियों को अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने वाले छात्रों के रास्ते में नहीं आना चाहिए।

सोनू द्वारा भेजी गई राहत सामग्री को राजघाट, दशाश्वमेध और शिवाला घाट पर 220 नाविकों के बीच वितरण कराया गया। राजघाट पर गोविंद साहनी व धीरज ने 70 जरूरतमंदों के बीच राहत सामग्री के पैकेट वितरित किये।

बाढ औऱ लॉकडाउन की मार झेल रहे नाविकों के लिए खेवनहार बने फिल्म अभिनेता सोनू सूद अचानक बनारसियों के निशाने पर आ गए हैं।

सोनू सूद एक मात्र ऐसे एक्टर है जिन्होंने बिना कोरोना के डर से दूसरों की मदद की। जहां एक तरफ सारा देश घर में बैठा था। वही एक अकेले एक्टर ने कई मजदूरों को उनके घर पहुचाने में मदद की। यही नहीं कई लोगों के ज़रूरत के समय उनकी सहायता भी की ।

सोनू सूद ने नोएडा में बीस हजार प्रवासी श्रमिकों के रहने की व्यवस्था की  है। इस बात का खुलासा सोनू सूद ने इंस्टाग्राम पर की है। लॉकडाउन के दौरान प्रवासियों को उनके घर भेजने में सहायता कर बॉलिवुड के विलेन सोनू अब रियल हीरो बनकर उभरे है।

बॉलीवुड और दक्षिण फिल्मों से अपनी अलग पहचान बनाने वाली एक्टर सोनू सूद आज हर कोई जनता है। उन्होंने कोरोना जैसी महामारी में लॉकडाउन में प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाया था।

अभिनेता सोनू सूद की एक और दरियादिली सामने आयी है। उन्होंने हाल ही में अपने वादे को मिभाते हुए कुछ ही घंटो के भीरत आंध्रप्रदेश के एक गरीब किसान के परिवार के घर ट्रैक्टर पहुंचा दिया है।

फिल्मों के विलेन सोनू सूद रियल लाइफ के हीरो है। कोरोना संकट के दौर में उन्होंने जो किया पूरी दुनिया उसकी तारीफ कर रही है। कोरोना के दौरान सोनू सूद का एकदम अलग रूप दिखा। सोनू सूद ना जात देख रहे और ना ही धर्म, वे बस हर जरूरतमंद तक मदद पहुंचा रहे हैं। अब सोनू सूद देश के अन्नदाता किसानों की मदद करने को आगे आए हैं।