Sourav Ganguly

टीम इंडिया के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली पर बड़ा बयान दिया है, रवि शास्त्री ने कहा कि BCCI के अध्यक्ष के रूप में सौरव गांगुली की नियुक्ति भारतीय क्रिकेट को आगे ले जाने की दिशा में एक सही कदम है। इसरे साथ ही शास्त्री ने कहा कि बीसीसीआई अध्यक्ष बनने के लिए मैं सौरव को दिल से बधाई देता हूं, उनकी नियुक्ति भारतीय क्रिकेट को सही दिशा में आगे ले जाने के लिए एक बड़ा संकेत है।

उन्होंने कहा कि अपने बारे में खुद फैसला करना हैं कि उन्हें भविष्य में क्या करना है। मैं भी टीम से बाहर होने के बाद वापस आया था। चैम्पियन इतना जल्दी नहीं छोड़ते हैं। मुझे नहीं मालूम कि उनके दिमाग में अभी क्या चल रहा है।

बीसीसीआई के नए अध्यक्ष सौरभ गांगुली ने पदभार संभालने के बाद बुधवार को पहली बार प्रेस कांफ्रेंस की। इस दौरान पत्रकारों ने सौरभ गांगुली से महेंद्र सिंह धोनी के रिटायरमेंट और टीम में रोल पर सवाल पूछे।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) में बदलाव शुरू हो चुका है।  23 अक्टूबर से टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली  बीसीसीआई के नए अध्यक्ष के रूप में अपनी टीम के साथ कमान संभालेंगे।

कोलकाता के दमदम हवाई अड्डे पर पत्रकारों से बात करते हुए सौरव गांगुली ने कहा कि यह एक बड़ी जिम्मेदारी है। उम्मीद है कि वे अच्छा काम कर पाएंगे। उनकी प्राथमिकता प्रथम श्रेणी क्रिकेट ही होगी। प्रथम श्रेणी का क्रिकेट बेहद महत्वपूर्ण है, क्योंकि ये भारतीय क्रिकेट का आधार है। हम सिर्फ शीर्ष

अमित शाह ने कहा कि, BCCI का अध्यक्ष कौन बनेगा, ये सब मैं तय नहीं करता। इसके लिए भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) की अपनी चुनावी प्रकिया है।

भारतीय क्रिकेट प्रशासन में 23 अक्टूबर से नए चेहरे आ जायेंगे। इसी दिन बीसीसीआई की जनरल बाडी मीटिंग है जिसमें नए पदाधिकारियों को जिम्मेदारी सौंप कर सीओए यानी कमेटी ऑफ एडमिनिस्ट्रेटर्स पद से हट जायेगी। लेकिन नए पदाधिकारी कोई अनजान चेहरे नहीं हैं।

सौरव गांगुली का कार्यकाल 10 महीने का होगा। दरअसल उनका क्रिकेट करियर तो बेहतरीन था। मगर उनके पास क्रिकेट प्रशासन का अच्छा अनुभव भी है। ऐसे में ये दोनों ही चीजें उनके काम आने वाली हैं, जिसकी वजह से वह अब BCCI अध्यक्ष पद का भार संभालेंगे।

BCCI के अध्यक्ष रह चुके ठाकुर गांगुली का जबरदस्त समर्थन कर रहे हैं। हालांकि, सूत्रों का कहना है कि गांगुली के पास तजुर्बा अच्छा है। वह न सिर्फ एक बेहतरीन क्रिकेटर रहे हैं बल्कि इस वक़्त क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बंगाल (CAB) के अध्यक्ष भी हैं।

अगर गांगुली अध्यक्ष बनते हैं तो उनका कार्यकाल 10 महीने का होगा। वैसे वह इस रेस में टॉप पर हैं क्योंकि उनका क्रिकेट करियर तो बेहतरीन था। मगर उनके पास क्रिकेट प्रशासन का अच्छा अनुभव भी है।