special

23 अप्रैल 1564 को शेक्सपीयर ने दुनिया को अलविदा कहा था, जिनकी कृतियों का विश्व की समस्त भाषाओं में अनुवादित है। जिसने अपने जीवन काल में करीब 35 नाटक और 200 से अधिक कविताएं लिखीं। साहित्य-जगत में शेक्सपीयर का जो स्थान  है उसी को देखते हुए यूनेस्को ने 1995 से और भारत सरकार ने 2001 से इस दिन को  विश्व पुस्तकालय दिवस

क्रिकेट की दुनिया में बल्लेबाजों के साथ गेंदबाजों को भी बराबर का दर्जा है। इसलिए क्रिकेट में गेंदबाजों का खौफ हमेशा रहा है। तेज गेंदबाजों से बचने के लिए इंग्लैंड के बल्लेबाज डेनिस एमिस ने एक तरकीब निकाली था। एमिस को ही क्रिकेट में सबसे पहले हेलमेट के इस्तेमाल का श्रेय जाता है

नवरात्रि पर मां की पूजा-उपासना बहुत ही विधि-विधान से की जाती है। इसके पीछे का तात्विक अवधारणाओं का परिज्ञान धार्मिक, सांस्कृतिक और सामाजिक विकास के लिए आवश्यक है।इस बार कलश स्‍थापना का शुभ मुहूर्त  सुबह 6 बजकर 19 मिनट से 10 बजकर 22 मिनट तक रहेगा। वैसे कलश स्‍थापना का दूसरा शुभ मुहूर्त भी है। 

14 फरवरी को प्यार करने वालों का दिन माना जाता है। लेकिन ये जरुरी नहीं कि वो आपका सिर्फ हमसफर पार्टनर हो, बल्कि कोई सख्श जो आपके लिए मायने रखता है उससे प्यार का इजहार कर सकते हैं।इसमे आपकी गर्लफ्रेंड/ब्वॉयफ्रेंड तो हो सकती/सकता है।

सैय्यद अख्तर हुसैन रिजवी उर्फ़ कैफ़ी आजमी एक उर्दू-हिंदी शायर और लाखों दिलों की धड़कन है। उनके शब्द आज भी लोगों के दिलोंदिमाग में गूंजते हैं। उन्होंने हिन्दी फिल्मों के लिए भी कई प्रसिद्ध गीत व ग़ज़लें भी लिखीं, जिनमें देशभक्ति का अमर गीत -"कर चले हम फिदा, जान-ओ-तन साथियों" भी शामिल है।

कठोर से कठोर व्यक्ति का दिल बच्चे की मुस्कान जीत लेती है। कहते हैं कि बच्चों का मन सच्चा होता है। ये नन्हें फूल हर किसी को प्यारे लगते हैं। शायर साहिर की ये चंद लाइने बच्चे मन के सच्चे ये वो नन्हे फूल है जो भगवान को लगते प्यारे....  बच्चों के मन की खूबसूरती को बयां करते हैं।

छठ पर्व सूर्य की उपासना का प्रकृति पर्व है। छठ ही एक ऐसा पर्व है जिसमें डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। छठ पर्व का व्रत बहुत कठिन होता है। मान्यता है कि छठ के 4 दिनों में सूर्यदेव और उनकी बहन छठी देवी की पूजा से व्रतियों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती है।

आज धनतेरस है। जो कार्तिक के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को मनाया जाता है। इस दिन भगवान धनवंतरि और कुबेर के साथ मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है।इस बार धनतेरस पर ब्रह्म सिद्ध महायोग बन रहा है।जो धन प्राप्ति का मार्ग बनाएगा। इस साल धनतेरस के दिन शुक्र, प्रदोष और धन त्रयोदशी का महायोग है।

इस दिन महिलाएं पूरे दिन अपने पति के लिए व्रत रखती हैं और दुल्हन की तरह सज कर चांद की पूजा करती हैं। दुल्हन की तरह सजी महिलाओं के हाथ में अगर बेरंग पूजा की थाली हो तो अच्छा नहीं लगेगा। इस बार करवा चौथ पर खुद तैयार होने से पहले अपनी पूजा की थाली की भी सजावट कर लें।

उन्होने रामायण की रचना की थी। माना जाता है कि रामायण वैदिक जगत का सर्वप्रथम काव्य था।रामायण की रचना महर्षि वाल्मीकि ने संस्कृत भाषा में की थी और जिसमें कुल चौबीस हजार श्लोक है।