strike

सीएए-एनआरसी के खिलाफ कल से धरना देगी ममता कोलकाता। नागरिकता संशोधन विधेयक व सीएए को लेकर विरोध प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहा है। टीएमसी अध्यक्ष व पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नागरिकता संशोधन एक्ट के खिलाफ हमलावर हैं। उन्होंने ऐलान किया है कि शुक्रवार से उनकी पार्टी कोलकाता में नॉन स्टॉप …

बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी में पिछले 15 दिनों से चल रहे फिरोज खान नियुक्ति विवाद मामले का आखिरकार पटाक्षेप हो गया है। नियुक्ति के विरोध में वीसी आवास के बाहर जमे छात्रों ने शुक्रवार की शाम को अपना धरना खत्म कर दिया।

तीस हजारी कोर्ट में हिंसा मामले पर देश में वकीलों का प्रदर्शन तेज हो गया है। दिल्ली के वकीलों का समर्थन करने के लिए राजस्थान, हरियाणा, पंजाब और चंडीगढ़ के वकीलों ने समर्थन किया है।

मंगलवार को सरकारी बैंकों की हड़ताल है जिसकी वजह से कामकाज ठप रहेगा। सभी बैंकों ने ग्राहकों को इसकी जानकारी पहले ही दे दी है। बैंकों से जुड़े दो यूनियनों ने हड़ताल की घोषणा की है।

उत्तर प्रदेश के लेखपाल बुधवार से हड़ताल पर रहेगा। इस दौरान प्रदेशभर के तहसीलों में प्रदर्शन कर धरना भी देंगे। कन्नौज और कासगंज में वकीलों द्वारा महिला लेखपाल के साथ मारपीट के विरोध में उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ ने हड़ताल का ऐलान किया है।

किसानों-मजदूरों की समस्याओं को लेकर उत्तर प्रदेश के सहारनपुर से दिल्ली पैदल मार्च कर आए भारतीय किसान संगठन की 15 में से 5 मांगें मोदी सरकार ने मान ली हैं, जिसके बाद किसानों ने अपने आंदोलन को खत्म करने का ऐलान किया है।

ट्रैफिक नियम संशोधन अधिनियम के विभिन्न प्रावधानों और जुर्माने के खिलाफ ट्रांसपोर्टर्स की हड़ताल से गुरुवार को लोगों को आवाजाही में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इस हड़ताल की वजह से दिल्ली-एनसीआर में लोगों को खासा परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

केंद्र की मोदी सरकार ने सार्वजनिक बैंकों के विलय का ऐलान किया है। अब इसके विरोध में बैंक चार दिन तक बंद रहेंगे। 26 व 27 सितंबर को दो दिवसीय राष्ट्रीय हड़ताल है, जिसमें सभी बैंकों के अधिकारी शामिल होंगे।

हाईकोर्ट बार के महासचिव जेबी सिंह के अनुसार अध्यक्ष राकेश पांडे बबुआ की अध्यक्षता में हुई बैठक में राज्य शिक्षा सेवा अधिकरण के गठन पर तस्वीर स्पष्ट नहीं होने और अवध बार एसोसिएशन के न्यायिक कार्य से विरत रहने के फैसले के मद्देनजर शुक्रवार को भी न्यायिक कार्य से विरत रहने का प्रस्ताव पारित किया गया।