sushma swaraj

अपने बयानों की वजह से हमेशा चर्चा में रहने वाली बीजेपी की सांसद प्रज्ञा ठाकुर एक बार फिर चर्चा में हैं। इस बार भोपाल से बीजेपी सांसद ने विपक्ष पर बड़ा आरोप लगाया है। बीजेपी नेताओं की मौत पर साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने शंका जाहिर किया है।

पिछले साल 16 अगस्त को पार्टी के शीर्षस्थ नेता एवं देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल विहारी वाजपेयी के निधन के बाद अनन्त कुमार, मनोहर पर्रिकर, सुषमा स्वराज और आज अरुण जेटली का निधन हो गया।

पीएम मोदी के जेटली और स्वराज के साथ काफी अच्छे संबंध थे। जेटली और सुषमा स्वराज ने मोदी सरकार-1 में केंदीय मंत्री थे। कहा जाता है पीएम मोदी को बनाने वाले अरुण जेटली ही थे। आज जिस मुकाम पर पीएम मोदी हैं, उसमें कहीं न कहीं जेटली का भी हाथ है।

वह 2009 में हुए आमचुनाव में कर्नाटक के बैंगलुरू दक्षिण चुनाव क्षेत्र से 15वीं लोकसभा के लिए सदस्य निर्वाचित हुए थे। मोदी सरकार में उन्हें रसायन और उर्वरक मंत्रालय और संसदीय मामलों का मंत्री पद मिला।

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज का दिल का दौरा पड़ने से मंगलवार देर रात निधन हो गया है। सुषमा की शादी साल 1975 में सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील स्वराज कौशल से हुई थी। अब देश की पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज हमारे बीच नहीं रहीं। ऐसे में आज हम …

भारतीय जनता पार्टी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह एवं प्रदेश महामंत्री (संगठन) सुनील बंसल ने भाजपा की वरिष्ठ नेता एवं पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया।

देश के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू लोधी रोड स्थित शवदाह गृह में सुषमा स्वराज को अंतिम विदाई देने पहुंचे तो उनके पार्थिव शरीर के सामने फफक-फफक कर रो पड़े।

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का पार्थिव शरीर बुधवार की शाम पंचतत्व में विलीन हो गया। पूरे देश ने नम आंखों के साथ अपनी नेता को अंतिम विदाई दी। सुषमा स्वराज सिर्फ एक नेता या मंत्री नहीं थी बल्कि मानवीय मूल्यों के प्रति उन्होंने जो समर्पण दिखाया, उसे हर कोई याद कर रहा है।

साल 1990 में उन्होंने राष्ट्रीय राजनीति में एंट्री की। 1996 में दक्षिणी दिल्ली से सांसद चुनी गईं। लेकिन 1998 में वह दिल्ली की मुख्यमंत्री बनीं लेकिन बाद में बीजेपी चुनाव हार गईं और सुषमा ने वापस राष्ट्रीय राजनीति में एंट्री की। सुषमा स्वराज के निधन पर विदेशी राजनेताओं ने भी शोक जताया। उनका अंतिम संस्कार मंगलवार को दोपहर 3 बजे लोधी रोड पर किया जाएगा।

भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज का दिल का दौरा पड़ने से मंगलवार देर रात निधन हो गया है। सुषमा की शाजी साल 1975 में सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील स्वराज कौशल से हुई थी।