Swami Chinmayanand

स्वामी चिन्मयानन्द को ब्लैकमेल करने की आरोपी रेप पीड़िता विधि छात्रा की जमानत अर्जी की सुनवाई आज नहीं हो सकी। कोर्ट के सुनवाई के क्षेत्राधिकार को लेकर आज सवाल उठे जिस पर कोर्ट ने अर्जी सक्षम कोर्ट में 2 दिसम्बर को पेश करने का आदेश दिया है।

पीड़िता जब सुप्रीम कोर्ट में पेश हुई तो उ.प्र. में न जाकर दिल्ली में रहने और पिता से मिलने का व आगे की कार्यवाही की बात की थी वकीलों की सलाह से दिल्ली में शिकायत की गयी। अधिवक्ता का यह भी कहना है कि लुटियन गिरोह हिन्दू संतों को बदनाम करने के प्रयास में जुटा है।

पीड़िता ने लगातार वर्षो तक दुराचार करने का स्वामी पर आरोप लगाया है। फ़िलहाल स्वामी की निचली अदालत में जमानत अर्जी खारिज हो चुकी है। अब हाई कोर्ट में अर्जी दी गई है। 

स्वामी चिन्मयानंद के मामले ने अब राजनैतिक रूप ले लिया है, जिसकी वजह से ये मामला अब काफी हाइ-प्रोफ़ाइल हो गया है। स्वामी को इसलिए कड़ी सुरक्षा में जेल में रखा गया है।

बता दें कि सोमवार शाम कांग्रेस मुख्यालय पर प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कांग्रेस सांसद पीएल. पुनिया ने कहा कि कांग्रेसी पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए शांतिपूर्वक पदयात्रा निकाल रही थी, लेकिन बीजेपी सरकार पुलिस की मदद से उनकी आवाज दबाने की कोशिश कर रही है।

लखनऊ। चिन्मयानंद प्रकरण में छात्रा की गिरफ्तारी पर विपक्ष का चौतरफा हमला को मुद्दा बनाते हुए समूचा विपक्ष लामबंद हो गया है। इस मामले में अखिलेश ने जहां दोहरे चरित्र वाली और जुमला पार्टी का तंज किया तो वृंदा करात, सुभाषिनी अली छात्रा से मिलने शाहजहांपुर गईं वहीं कांग्रेस के नेता सुप्रिया श्रीनेत ने भाजपा के एक दर्जन विधायकों को बलात्कारी बताया है।

प्रयागराज। इलाहाबद उच्च न्यायालय ने पूर्व गृह राज्य मंत्री चिन्मयानन्द पर विधि छात्रा से दुष्कर्म के आरोपों की जांच कर रही एसआईटी की विवेचना पर संतोष जताया है। कोर्ट ने कहा कि जांच सही दिशा में बढ़ रही है। कोर्ट ने पीडि़त छात्रा की ओर से चिन्मयानंद से 5 करोड़ की रंगदारी मांगने के मुकदमे में उसकी गिरफ्तारी पर रोक लगाने का आदेश देने से इंकार कर दिया है साथ ही 164 सीआरपीसी के तहत न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा दर्ज बयान फिर से कराने या उसमें संशोधन के अनुमति देने से भी इंकार कर दिया है।

लॉ कॉलेज की छात्रा ने चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाया था। लेकिन स्वामी चिन्मयानंद से इस मामले में ब्लैकमेलिंग करने का आरोप पीडि़त लॉ छात्रा और उसके दोस्तों पर है।

पीड़ित छात्रा के पिता ने तो शारीरिक शोषण तक का आरोप लगाया है।  इस घटना को लेकर वे कोई भी सफाई देने के बजाए आरोपों का जवाब पुलिस और न्यायालय के सामने देने की बात कह रहे है।

शाहजहांपुर यौन शोषण केस में पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद को गिरफ्तार कर लिया गया है। अदालत ने उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। यूपी की स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम (एसआईटी) ने चिन्मयानंद को शाहजहांपुर से ही गिरफ्तार किया।