Tablighi Jamaat

पूरी दुनिया इस समय कोरोना से जंग लड़ रही है। भारत, अमेरिका समेत दुनिया के कई मुल्क जब कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने के काम में दिन-रात जुटे हुए हैं। वहीं इससे इतर पाकिस्तान ऐसे समय में भी अपनी भारत विरोधी मानसकिता से उबर नहीं पा रहा है।

भारत में कोरोना संक्रमितों को दाखिल कराने के आरोपी जालिम मुखिया को नेपाल पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। नेपाल में जालिम मुखिया पर आरोप लगे हैं कि उसने जमातियों को पनाह दी थी।

देश भर में कोरोना वायरस का प्रकोप थमने का नाम नहीं लें रहा है। रोज बड़ी संख्या में नये केस मिल रहे हैं और मौत का आंकड़ा भी तेजी के साथ बढ़ता ही जा रहा है। अभी तक देश भर में जितने कोरोना के मामले मिले हैं। उनमें से एक बड़ी संख्या तबलीगियों की है। जो मरकज में छिपे हुए थे। 

उत्तर प्रदेश में तबलीगी जमात में शामिल हुए जमातियों के खिलाफ एक्शन लिया जा रहा है। प्रदेश में जिन विदेशी जमातियों को पासपोर्ट और वीजा नियमों के उल्लंघन का दोषी पाया गया है, उन्हें जेल भेज दिया गया है।

तबलीगी जमात के बाद एक और जमात ने कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर संकट खड़ा कर दिया है। तुर्कमान गेट की जमात-ए-शूरा के करीब 11 सदस्यों के गुजरात पहुंचने की जानकारी मिली है।

राज्य में जमातियों की तलाश के लिए उत्‍तराखंड पुलिस ने स्‍पेशल टीम का गठन किया है। इस अभियान के लिए गठित की गई स्पेशल टीम का काम सूबे में मौजूद जमातियों की पहचान कर उन्हें क्वारनटाइन सेंटर पहुंचाना होगा।

तबलीगी जमात को अपने दिल्ली कार्यक्रम की वजह से भारत में आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। देश ही नहीं बल्कि पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में भी जमात की जमकर आलोचना हो रही है जमात ने बीते महीने पाकिस्तान में भी अपना सालाना कार्यक्रम किया था।

हिमाचल प्रदेश के ऊना से खबर है कि यहां पर तबलीगी जमात के लोगों ने बस में सवार होने के बाद उसमें मौजूद दूसरे यात्रियों को पेठे की मिठाई बांटी थी।

कोरोना वायरस के डर के चलते मरकज के पास मौजूद निजामुद्दीन थाने में तैनात करीब दर्जनभर पुलिस कर्मियों ने अपने सिर मुंडवा लिए हैं।