-tablighi-jammat

मौलाना साद पर देशभर में कोरोना फैलाने का तो आरोप है ही साथ ही देवबंदी उलमा भी इसके खिलाफ फतवा जारी कर चुके हैं। वर्तमान में मौलाना साद व उसके पांच सहयोगी फरार हैं। तब्लीगी जमात पर कई मुस्लिम मुल्कों में प्रतिबंध लगा हुआ है। आतंकवादियों से भी जमात के रिश्तों की बात सामने आती रही है।

फिलहाल बिल्डिंग सील है। लेकिन अब इसे ढहाने की कार्रवाई को अंजाम देने की एसडीएमसी तैयारी कर रहा है। अधिकारियों का कहना है कि बिल्डिंग का निर्माण पूरी तरह से गैरकानूनी है। इस बिल्डिंग का किसी भी तरह का कोई कर जमा नहीं किया जा रहा था।

निरीह चिकित्सा सेविकाओं पर आघात करने वालों को उचित सबक सिखाने से पुलिस चूक गई। यदि पर्याप्त सुरक्षा के अभाव में अब डॉक्टर और नर्सें हिंसाग्रस्त क्षेत्रों में जाने से इंकार कर दें तो ? सैकड़ों कोरोना मरीजों की कौन प्राण रक्षा करेगा?

कोरोना वायरस के तांडव के बीच इस समय तबलीगी जमात देश का राष्ट्रीय मुद्दा बना हुआ। बिते दिनों दिल्ली के निजामुद्दीन में तबलीगी जमात का एक कार्यक्रम हुआ..

दिल्ली के निजामुद्दीन के तबलीगी जमात से कोरोना विस्फोट से जुड़ा अब बड़ा खुलासा हुआ है। इस मामले में पुलिस जांच के बाद पता चला कि मरकज में शामिल हुए करीब 160 मौलवी ऐसे थे, जिनमें कोरोनावायरस के लक्षण पता चले थे लेकिन फिर भी इसे नजरअंदाज किया किया और कार्यक्रम किया गया।

देश की राजधानी के हजरत निजामुद्दीन इलाके में स्थित मरकज़ के कार्यक्रम में शामिल होने वाले वाले 200 अन्य विदेशियों के अलग-अलग मस्जिदों में होने की जानकारी पुलिस की स्पेशल सेल ने....

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने तीखी प्रतिक्रिया दी है।कहा कि तबलीगी जमात के निजामुद्दीन मरकज की गतिविधियों में शामिल हुए कई लोग कोरोना  संक्रमण का शिकार हो गए है इस पर केंद्रीय मंत्री नराजगी जाहिर है। इधर तबलीगी जमात पर आरोप लग रहे हैं