Tabligi Jamaat

दिल्ली पुलिस ने बताया कि मौलाना साद को चौथी बार नोटिस इसलिए भेजा गया है क्योंकि वह जांच में सहयोग नहीं कर रहा है। बता दें कि अभी हाल में ही तब्लीगी मरकज के प्रमुख मौलाना मुहम्मद साद के अधिवक्ता ने दावा किया था कि मौलाना ने निजी और सरकारी लैब से कोरोना की जांच कराई है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड-19 की महामारी के दृष्टिगत सुरक्षा की दृष्टि से गिरफ्तार तबलीगी जमात अथवा अन्य जमातियों एवं व्यक्तियों को अस्थायी जेलों में रखे जाने के निर्देश दिये है।

दिल्ली के निजामुद्दीन की तर्ज पर बिहार के नालंदा में भी 14-15 मार्च को मरकज का सम्मेलन हुआ था। इस मरकज में एक जमाती के संपर्क में आने वाला नवादा का व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाया गया है।

निजामुद्दीन मरकज में कोरोना विस्फोट को अंजाम देने के आरोपी मौलाना साद की मुश्किलें कम होती नहीं दिख रही। मौलाना साद का क्वारेंटाइन पीरियड खत्म हो गया है।

दिल्ली में तबलीगी जमात के धार्मिक कार्यक्रम में शामिल 30 साल के व्यक्ति ने खुद के कोरोना वायरस संक्रमित होने का पता चलने के बाद महाराष्ट्र के अकोला जिले के सरकारी अस्पताल में कथित तौर पर आत्महत्या कर ली।

देश में कोरोना के मरीजों के मिलने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। अभी तक जिन लोगों की जांच रिपोर्ट में कोरोना की पुष्टि हुई है। उनमें बड़ी संख्या तबलीगी जमात के लोगों की है।

दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से कोरोना वायरस का ब्लास्ट करने वाले तबलीगी जमात से जुड़े लोगों पर पुलिस की नजर बनी हुई है लेकिन इसी बीच महाराष्ट्र में जमात से जुडी बड़ी खबर आई है। यहां मरकज से लौटे 60 जमाती लापता हो गए हैं।

राजधानी दिल्ली में तबलीगी जमात के जलसे के जरिये देशभर में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने के बाद यह संगठन हर किसी के निशाने पर है। जमात के मुखिया मौलाना साद कांधलवी पर शिकंजा कसने के लिए कई एजेंसियां सक्रिय हैं।

आजमगढ़ में कोरोना का एक नया मरीज पाया गया है। इसके पहले इस जिले में कोरोना के तीन मरीज पाये गये थे। यह तीनों मरीज दिल्ली के तब्लीगी जमात से लौटे हुए लोग थे और मुबारकपुर कस्बे के सिकठी स्थित एक मदरसे में ठहरे हुए थे।

दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से कोरोना विस्फोट करने वाले तबलीगी जमात पर पुलिस-प्रशासन ने अपना शिकंजा कस लिया है। मौलाना साद समेत कई लोगों पर केस तो पहले ही दर्ज कर लिया गया था, जिसके बाद दिल्ली पुलिस ने इन्हे नोटिस भेज कर जमात को होने वाली फंडिंग, विदेशी कनेक्शन आदि तमाम बातों का डिटेल माँगा।