Tabligi Jamat

तबलीगी जमात के मुखिया मौलाना साद और जमात की गतिविधियों की जांच करने में जुटी क्राइम ब्रांच की टीम भी कोरोना की शिकार हो गई है। जांच टीम में शामिल पांच पुलिसकर्मी एक-एक कर कोरोना वायरस की चपेट में आ गए हैं।

मौलाना साद जो तबलीगी जमात के मुखिया है, कोरोना महामारी के आकंड़ों के एकदम से बढ़ने के साथ ही उन पर शिंकजा कसता ही जा रहा है, और मामला तूल पकड़ता जा रहा है।

 देशभर में कई दिनों से तबलीगी जमातियों की वजह से कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहें हैं। दिल्ली के निज़ामुद्दीन मरकज में बीते महीने शामिल होने आए तबलीगी जमात के सैकड़ों सदस्य कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे।

दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात का मुखिया मौलाना साद अभी तक फरार चल रहा है। मौलान साद की तलाश में पुलिस हाथ पैर इधर उधर मार रही है। मौलाना के खिलाफ खिलाफ क्राइम ब्रांच कईं बार छापा मार चुका है और हाल ही में उसे फार्म हाउस पर दिल्ली पुलिस के क्राइम ब्रांच ने छापा मरा था।

अब तक जिले में चार व्यक्ति कोरोना वायरस (कोविड 19) से ग्रसित पाये गये हैं जिसमें दो तब्लीगी जमात के हैं जिनका नाम इस्माइल बंगला देश, तथा यासीन अंसारी रांची झारखंड, और एक असहद सऊदी अरब से आया था जो ठीक हो कर घर जा चुका है।

दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में मरकज़ तबलीगी धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होकर 50 लोग जौनपुर में आये हैं। इनके आने की खबर मिलते ही जिले के प्रशासनिक हलके में हड़कंप मच गया।