tejasvi yadav

लालू यादव की तबियत ज्यादा ख़राब होने पर जब रिम्स के डॉक्टरों की टीम ने लालू यादव को एम्स भेजने का फैसले लिया, तो अस्पताल में रिश्तेदारों और पार्टी नेताओं की भारी भीड़ लग गई थी। इससे पहले रांची में जेल प्रशासन ने एक महीने के लिए लालू को एम्स भेजने की अनुमति दी थी।

विधानसभा चुनाव के दौरान राजद नेता तेजस्वी यादव के आरोपों और उनके समर्थकों के हंगामों को खामोशी से बर्दाश्त करते आ रहे जदयू नेता व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शुक्रवार को विधानसभा के अंदर तेजस्वी पर बरस पड़े।

सीएम नीतीश कुमार और उनकी सहयोगी बीजेपी को देश व राज्य में फैल रहे कोरोना की नहीं, बल्कि कुर्सी की चिंता है। इसी कारण ये कोरोना काल में भी चुनाव कराना चाहते हैं। ये कहना है तेजस्वी यादव का । एनडीए के नेता आरजेडी-कांग्रेस के इन आरोपों को खारिज कर दिया हैं,

तेजस्वी यादव का कहना है कि जरूरत पड़ने पर बिहार में राष्ट्रपति शासन लगाया जा सकता है। सच्चाई यह है कि मौजूदा समय चुनाव के लिए बिल्कुल भी अनुकूल नहीं है।

राजद नेता तेजस्वी यादव ने खुद करिश्मा राय को पार्टी की सदस्यता ग्रहण करवाई। सियासी हलकों में इस घटनाक्रम को अचरज भरी निगाहों से देखा गया।

सुशांत को हर कोई याद कर रहा है। इस बीच आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने सुशांत को लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पात्र लिख कर एक मांग की है।

बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने नीतीश सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए कमर कस ली है। शनिवार को अचानक पटना स्थित राजद ऑफिस पहुंचे तेजस्वी ऐसा काम करने लगे जिसे देखकर पार्टी के कार्यकर्ता भी हैरान रह गए।

बिहार की सियासत में बीस मिनट की मुलाकात ने रंग दिखाया। इस मुलाकात को गेम चेंजिंग माना जा रहा है। दरअसल विधानसभा में सीएम नीतीश कुमार के चैंबर में तेजस्वी यादव की 20 मिनट की राजनीतिक मुलाकात ने बिहार के सियासी हलकों में तूफान मचा दिया।

पूरे देश में CAA और NRC को लेकर बवाल मचा है। अब NRC को लेकर नई ख़बर बिहार विधानसभा से आ रही है। बिहार विधानसभा में NRC न लागू करने का प्रस्ताव पास हो गया

दिल्ली के बाद अब बिहार में भी चुनाव होने वाले हैं। ऐसा अंदाजा लगाया जा रहा है कि शायद इस बार यहां पर महागठबंधन होगा। बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने दिल्ली में RJD की करारी हार के बाद इशारों में तेजस्वी यादव पर हमला बोला था।