terrorism

अमेरिका में पाकिस्तान के पूर्व राजदूत हुसैन हक्कानी ने ‘आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ नहीं चल सकते’ के भारत के रुख का समर्थन करते हुए कहा कि दोनों देशों के बीच कोई भी उच्च-स्तरीय बातचीत तब-तक निरर्थक रहेगी जब तक इस्लामाबाद अपनी सरजमीं से आतंकवादी ठिकानों को नहीं हटाता।

मोदी सरकार अपनी दूसरी पारी में आतंकवाद को कतई बर्दाश्त न करने की नीति के साथ ही अवैध अप्रवासियों पर नजर रखने पर खास ध्यान देगी। इसके साथ ही वह देश भर में एनआरसी को लागू करने और जम्मू कश्मीर में धारा 35ए रद्द करने जैसे कदम भी उठा सकती है।

आम चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रचंड बहुमत से जीत के कुछ ही घंटे बाद अमेरिका में भारत के राजदूत हर्षवर्द्धन श्रृंगला ने कहा कि जब तक पाकिस्तान आतंकवाद का समर्थन करने की अपनी राज्य नीति को नहीं छोड़ता है तब तक भारत उसके साथ बातचीत नहीं करेगा।

व्हाइट हाउस ने कहा है कि आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में वैश्विक आतंकवादी घोषित किया जाना पाकिस्तान से आतंकवाद को जड़ से उखाड़ फेंकने और दक्षिण एशिया में सुरक्षा एवं स्थिरता कायम करने की अंतरराष्ट्रीय प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार के आरोप लगाया कि कांग्रेस का घोषणा पत्र आतंकवाद और नक्सलवाद को बढ़ावा देने वाला है।

सीरिया और इराक में आईएसआईएस के कब्जे वाले इलाकों से लौट रहे लड़ाकों सहित उन आतंकवादियों की संख्या यहां पिछले साल करीब तीन गुना बढ़ी है, जिन्हें कट्टरपंथ से मुक्त करने के लिए यहां ब्रिटिश सरकार द्वारा निर्धारित एक अनिवार्य कोर्स कराया जा रहा है। 

दोनों देशों ने शुक्रवार को यहां ‘यूएस इंडिया काउंटरटेरेरिज्म ज्वाइंट वर्किंग ग्रुप एंड डेजिग्नेशंस डायलॉग’ के दौरान आतंकवादी संगठनों से पैदा होने वाले खतरों पर बात की।

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान पर निशाना साधा है। उन्होंने पाकिस्तान से मसूद अजहर, हाफिज सईद व दाऊद सहित सभी आतंकियों को भारत को सौंपने की मांग की है। प्रसपा (लोहिया) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने गुरुवार को कहा कि पार्टी प्रमुख शिवपाल यादव ने आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान से अपना रवैया सुधारने को बोला है।

जम्मू कश्मीर में हुए आतंकवादी हमले में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि संकट की इस घड़ी में हमें उन वीर शहीदों के बलिदान के साथ अपने आप को जोड़ना चाहिए। वीर जवानों ने देश की रक्षा करते हुए अपने प्राणों की आहुति दी है। उन्होंने सी0आर0पी0एफ0 के सभी शहीद जवानों के प्रति विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनके परिजनों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त कीं।

पुलवामा में हुए आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों और हमले को लेकर गोरखपुर के लोग इस कदर नाराज है, कि अब वो सड़कों पर उतर गए है। और आज हिन्दू मुस्लिम सभी व्यापारी एक होकर दुकाने बंद कर कार्यवाही की मांग कर रहे हैं।